Author Topic: Munnawar Rana ki gazaleiN  (Read 460 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Reeta tyagi

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 94
Re: Munnawar Rana ki gazaleiN
« Reply #15 on: June 16, 2014, 05:11:17 PM »
What a collection woww :)

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: Munnawar Rana ki gazaleiN
« Reply #16 on: July 03, 2014, 07:00:31 PM »
मेरी ख़्वाहिश कि मैं फिर से फ़रिश्ता हो जाऊँ
माँ से इस तरह लिपट जाऊँ कि बच्चा हो जाऊँ

कम-से-बच्चों के होंठों की हँसी की ख़ातिर
ऐसी मिट्टी में मिलाना कि खिलौना हो जाऊँ

सोचता हूँ तो छलक उठती हैं मेरी आँखें
तेरे बारे में न सोचूँ तो अकेला हो जाऊँ

चारागर तेरी महारत पे यक़ीं है लेकिन
क्या ज़रूरी है कि हर बार मैं अच्छा हो जाऊँ

बेसबब इश्क़ में मरना मुझे मंज़ूर नहीं
शम्अ तो चाह रही है कि पतंगा हो जाऊँ

शायरी कुछ भी हो रुस्वा नहीं होने देती
मैं सियासत में चला जाऊँ तो नंगा हो

 meree Khvaahish ki mai.n phir se farishtaa ho jaa_oo.N
maa.N se is tarah lipaT jaa_oo.N ki bachchaa ho jaa_oo.N

kam-se-bachcho.n ke ho.nTho.n kee h.Nsee kee Khaatir
aisee miTTee me.n milaanaa ki khilaunaa ho jaa_oo.N

sochataa hoo.N to chhalak uThatee hai.n meree aa.Nkhe.n
tere baare me.n n sochoo.N to akelaa ho jaa_oo.N

chaaraagar teree mahaarat pe yaqee.n hai lekin
kyaa zarooree hai ki har baar mai.n achchhaa ho jaa_oo.N

besabab ishq me.n maranaa mujhe m.nzoor nahee.n
sham.ha to chaah rahee hai ki pat.ngaa ho jaa_oo.N

shaayaree kuchh bhee ho rusvaa nahee.n hone detee
mai.n siyaasat me.n chalaa jaa_oo.N to n.ngaa ho jaa_oo.N.

« Last Edit: July 03, 2014, 07:02:25 PM by Rashmi »
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: Munnawar Rana ki gazaleiN
« Reply #17 on: July 03, 2014, 07:15:38 PM »
हँसते हुए माँ बाप की गाली नहीं खाते
बच्चे हैं तो क्यों शौक़ से मिट्टी नहीं खाते

हो चाहे जिस इलाक़े की ज़बाँ बच्चे समझते हैं
सगी है या कि सौतेली है माँ बच्चे समझते हैं

हवा दुखों की जब आई कभी ख़िज़ाँ की तरह
मुझे छुपा लिया मिट्टी ने मेरी माँ की तरह

सिसकियाँ उसकी न देखी गईं मुझसे ‘राना’
रो पड़ा मैं भी उसे पहली कमाई देते

सर फिरे लोग हमें दुश्मन-ए-जाँ कहते हैं
हम जो इस मुल्क की मिट्टी को भी माँ कहते हैं

मुझे बस इस लिए अच्छी बहार लगती है
कि ये भी माँ की तरह ख़ुशगवार लगती है

मैंने रोते हुए पोंछे थे किसी दिन आँसू
मुद्दतों माँ ने नहीं धोया दुपट्टा अपना

भेजे गए फ़रिश्ते हमारे बचाव को
जब हादसात माँ की दुआ से उलझ पड़े

लबों पे उसके कभी बद्दुआ नहीं होती
बस एक माँ है जो मुझसे ख़फ़ा नहीं होती

तार पर बैठी हुई चिड़ियों को सोता देख कर
फ़र्श पर सोता हुआ बेटा बहुत अच्छा लगा


h.Nsate hue maa.N baap kee gaalee nahee.n khaate
bachche hai.n to kyo.n shauq se miTTee nahee.n khaate

ho chaahe jis ilaaqe kee zabaa.N bachche samajhate hai.n
sagee hai yaa ki sautelee hai maa.N bachche samajhate hai.n

havaa dukho.n kee jab aaee kabhee Khizaa.N kee tarah
mujhe chhupaa liyaa miTTee ne meree maa.N kee tarah

sisakiyaa.N usakee n dekhee ga_ee.n mujhase ‘raanaa’
ro p .Daa mai.n bhee use pahalee kamaa_ee dete

sar phire log hame.n dushman-e-jaa.N kahate hai.n
ham jo is mulk kee miTTee ko bhee maa.N kahate hai.n

mujhe bas is lie achchhee bahaar lagatee hai
ki ye bhee maa.N kee tarah Khushagavaar lagatee hai

mai.nne rote hue po.nchhe the kisee din aa.Nsoo
muddato.n maa.N ne nahee.n dhoyaa dupaTTaa apanaa

bheje ga_e farishte hamaare bachaav ko
jab haadasaat maa.N kee duaa se ulajh p .De

labo.n pe usake kabhee badduaa nahee.n hotee
bas ek maa.N hai jo mujhase Khafaa nahee.n hotee

taar par baiThee huee chi .Diyo.n ko sotaa dekh kar
farsh par sotaa huaa beTaa bahut achchhaa lagaa
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: Munnawar Rana ki gazaleiN
« Reply #18 on: July 03, 2014, 07:18:47 PM »
इस चेहरे में पोशीदा है इक क़ौम का चेहरा
चेहरे का उतर जाना मुनासिब नहीं होगा

अब भी चलती है जब आँधी कभी ग़म की ‘राना’
माँ की ममता मुझे बाहों में छुपा लेती है

मुसीबत के दिनों में हमेशा साथ रहती है
पयम्बर क्या परेशानी में उम्मत छोड़ सकता है

पुराना पेड़ बुज़ुर्गों की तरह होता है
यही बहुत है कि ताज़ा हवाएँ देता है
 
किसी के पास आते हैं तो दरिया सूख जाते हैं
किसी के एड़ियों से रेत का चश्मा निकलता है

जब तक रहा हूँ धूप में चादर बना रहा
मैं अपनी माँ का आखिरी ज़ेवर बना रहा

देख ले ज़ालिम शिकारी ! माँ की ममता देख ले
देख ले चिड़िया तेरे दाने तलक तो आ गई

मुझे भी उसकी जदाई सताती रहती है
उसे भी ख़्वाब में बेटा दिखाई देता है

मुफ़लिसी घर में ठहरने नहीं देती उसको
और परदेस में बेटा नहीं रहने देता

is chehare me.n posheedaa hai ik qaum kaa cheharaa
chehare kaa utar jaanaa munaasib nahee.n hogaa

ab bhee chalatee hai jab aa.Ndhee kabhee Gam kee ‘raanaa’
maa.N kee mamataa mujhe baaho.n me.n chhupaa letee hai

museebat ke dino.n me.n hameshaa saath rahatee hai
payambar kyaa pareshaanee me.n ummat chho .D sakataa hai

puraanaa pe .D buzurgo.n kee tarah hotaa hai
yahee bahut hai ki taazaa havaa_e.N detaa hai
 
kisee ke paas aate hai.n to dariyaa sookh jaate hai.n
kisee ke e .Diyo.n se ret kaa chashmaa nikalataa hai

jab tak rahaa hoo.N dhoop me.n chaadar banaa rahaa
mai.n apanee maa.N kaa aakhiree zevar banaa rahaa

dekh le zaalim shikaaree ! maa.N kee mamataa dekh le
dekh le chi .Diyaa tere daane talak to aa ga_ee

mujhe bhee usakee jadaa_ee sataatee rahatee hai
use bhee Khvaab me.n beTaa dikhaa_ee detaa hai

mufalisee ghar me.n Thaharane nahee.n detee usako
aur parades me.n beTaa nahee.n rahane detaa

agar skool me.n bachche ho.n ghar achchhaa nahee.n lagataa
parindo.n ke n hone par shajar achchhaa nahee.n lagataa
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Nayaab

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 60
Re: Munnawar Rana ki gazaleiN
« Reply #19 on: July 05, 2014, 07:15:13 PM »
Munawwar shab ke sher kya kehne ....MaaN ka ziqr kya khoobsoorati se karte hain.salaam

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: Munnawar Rana ki gazaleiN
« Reply #20 on: July 06, 2014, 07:02:05 PM »
Munawwar shab ke sher kya kehne ....MaaN ka ziqr kya khoobsoorati se karte hain.salaam
jki Nishant  koi shak nahi
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: Munnawar Rana ki gazaleiN
« Reply #21 on: July 06, 2014, 07:04:54 PM »
गले मिलने को आपस में दुआयें रोज़ आती हैं
अभी मस्जिद के दरवाज़े पे माएँ रोज़ आती हैं

कभी —कभी मुझे यूँ भी अज़ाँ बुलाती है
शरीर बच्चे को जिस तरह माँ बुलाती है

किसी को घर मिला हिस्से में या कोई दुकाँ आई
मैं घर में सब से छोटा था मेरे हिस्से में माँ आई

ऐ अँधेरे! देख ले मुँह तेरा काला हो गया
माँ ने आँखें खोल दीं घर में उजाला हो गया

इस तरह मेरे गुनाहों को वो धो देती है
माँ बहुत ग़ुस्से में होती है तो रो देती है

मेरी ख़्वाहिश है कि मैं फिर से फ़रिश्ता हो जाऊँ
माँ से इस तरह लिपट जाऊँ कि बच्चा हो जाऊँ

मेरा खुलूस तो पूरब के गाँव जैसा है
सुलूक दुनिया का सौतेली माओं जैसा है

रौशनी देती हुई सब लालटेनें बुझ गईं
ख़त नहीं आया जो बेटों का तो माएँ बुझ गईं

वो मैला—सा बोसीदा—सा आँचल नहीं देखा
बरसों हुए हमने कोई पीपल नहीं देखा

कई बातें मुहब्बत सबको बुनियादी बताती है
जो परदादी बताती थी वही दादी बताती है


gale milane ko aapas me.n duaaye.n roz aatee hai.n
abhee masjid ke daravaaze pe maa_e.N roz aatee hai.n

kabhee —kabhee mujhe yoo.N bhee azaa.N bulaatee hai
shareer bachche ko jis tarah maa.N bulaatee hai

kisee ko ghar milaa hisse me.n yaa koee dukaa.N aaee
mai.n ghar me.n sab se chhoTaa thaa mere hisse me.n maa.N aaee

ai a.Ndhere! dekh le mu.Nh teraa kaalaa ho gayaa
maa.N ne aa.Nkhe.n khol dee.n ghar me.n ujaalaa ho gayaa

is tarah mere gunaaho.n ko vo dho detee hai
maa.N bahut Gusse me.n hotee hai to ro detee hai

meree Khvaahish hai ki mai.n phir se farishtaa ho jaa_oo.N
maa.N se is tarah lipaT jaa_oo.N ki bachchaa ho jaa_oo.N

meraa khuloos to poorab ke gaa.Nv jaisaa hai
sulook duniyaa kaa sautelee maa_o.n jaisaa hai

raushanee detee huee sab laalaTene.n bujh ga_ee.n
Khat nahee.n aayaa jo beTo.n kaa to maa_e.N bujh ga_ee.n

vo mailaa—saa boseedaa—saa aa.Nchal nahee.n dekhaa
baraso.n hue hamane koee peepal nahee.n dekhaa

ka_ee baate.n muhabbat sabako buniyaadee bataatee hai
jo paradaadee bataatee thee vahee daadee bataatee hai
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: Munnawar Rana ki gazaleiN
« Reply #22 on: July 06, 2014, 07:06:35 PM »
हादसों की गर्द से ख़ुद को बचाने के लिए
माँ ! हम अपने साथ बस तेरी दुआ ले जायेंगे

हवा उड़ाए लिए जा रही है हर चादर
पुराने लोग सभी इन्तेक़ाल करने लगे

ऐ ख़ुदा ! फूल —से बच्चों की हिफ़ाज़त करना
मुफ़लिसी चाह रही है मेरे घर में रहना

हमें हरीफ़ों की तादाद क्यों बताते हो
हमारे साथ भी बेटा जवान रहता है

ख़ुद को इस भीड़ में तन्हा नहीं होने देंगे
माँ तुझे हम अभी बूढ़ा नहीं होने देंगे

जब भी देखा मेरे किरदार पे धब्बा कोई
देर तक बैठ के तन्हाई में रोया कोई

ख़ुदा करे कि उम्मीदों के हाथ पीले हों
अभी तलक तो गुज़ारी है इद्दतों की तरह

घर की दहलीज़ पे रौशन हैं वो बुझती आँखें
मुझको मत रोक मुझे लौट के घर जाना है

यहीं रहूँगा कहीं उम्र भर न जाउँगा
ज़मीन माँ है इसे छोड़ कर न जाऊँगा

स्टेशन से वापस आकर बूढ़ी आँखें सोचती हैं
पत्ते देहाती रहते हैं फल शहरी हो जाते हैं



haadaso.n kee gard se Khud ko bachaane ke lie
maa.N ! ham apane saath bas teree duaa le jaaye.nge

havaa u .Daa_e lie jaa rahee hai har chaadar
puraane log sabhee inteqaal karane lage

ai Khudaa ! phool —se bachcho.n kee hifaazat karanaa
mufalisee chaah rahee hai mere ghar me.n rahanaa

hame.n hareefo.n kee taadaad kyo.n bataate ho
hamaare saath bhee beTaa javaan rahataa hai

Khud ko is bhee .D me.n tanhaa nahee.n hone de.nge
maa.N tujhe ham abhee boo.Dhaa nahee.n hone de.nge

jab bhee dekhaa mere kiradaar pe dhabbaa koee
der tak baiTh ke tanhaa_ee me.n royaa koee

Khudaa kare ki ummeedo.n ke haath peele ho.n
abhee talak to guzaaree hai iddato.n kee tarah

ghar kee dahaleez pe raushan hai.n vo bujhatee aa.Nkhe.n
mujhako mat rok mujhe lauT ke ghar jaanaa hai

yahee.n rahoo.Ngaa kahee.n umr bhar n jaa_u.Ngaa
zameen maa.N hai ise chho .D kar n jaa_oo.Ngaa

sTeshan se vaapas aakar boo.Dhee aa.Nkhe.n sochatee hai.n
patte dehaatee rahate hai.n phal shaharee ho jaate hai.n
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: Munnawar Rana ki gazaleiN
« Reply #23 on: July 07, 2014, 05:08:31 PM »
अब देखिये कौम आए जनाज़े को उठाने
यूँ तार तो मेरे सभी बेटों को मिलेगा

अब अँधेरा मुस्तक़िल रहता है इस दहलीज़ पर
जो हमारी मुन्तज़िर रहती थीं आँखें बुझ गईं

अगर किसी की दुआ में असर नहीं होता
तो मेरे पास से क्यों तीर आ के लौट गया

अभी ज़िन्दा है माँ मेरी मुझे कु्छ भी नहीं होगा
मैं जब घर से निकलता हूँ दुआ भी साथ चलती है

कहीं बे्नूर न हो जायें वो बूढ़ी आँखें
घर में डरते थे ख़बर भी मेरे भाई देते

क्या जाने कहाँ होते मेरे फूल-से बच्चे
विरसे में अगर माँ की दुआ भी नहीं मिलती

कुछ नहीं होगा तो आँचल में छुपा लेगी मुझे
माँ कभी सर पे खुली छत नहीं रहने देगी

क़दमों में ला के डाल दीं सब नेमतें मगर
सौतेली माँ को बच्चे से नफ़रत वही रही

धँसती हुई क़ब्रों की तरफ़ देख लिया था
माँ बाप के चेहरों मी तरफ़ देख लिया था

कोई दुखी हो कभी कहना नहीं पड़ता उससे
वो ज़रूरत को तलबगार से पहचानता है



ab dekhiye kaum aae janaaze ko uThaane
yoo.N taar to mere sabhee beTo.n ko milegaa

ab a.Ndheraa mustaqil rahataa hai is dahaleez par
jo hamaaree muntazir rahatee thee.n aa.Nkhe.n bujh ga_ee.n

agar kisee kee duaa me.n asar nahee.n hotaa
to mere paas se kyo.n teer aa ke lauT gayaa

abhee zindaa hai maa.N meree mujhe ku.hchh bhee nahee.n hogaa
mai.n jab ghar se nikalataa hoo.N duaa bhee saath chalatee hai

kahee.n be.hnoor n ho jaaye.n vo boo.Dhee aa.Nkhe.n
ghar me.n Darate the Khabar bhee mere bhaa_ee dete

kyaa jaane kahaa.N hote mere phool-se bachche
virase me.n agar maa.N kee duaa bhee nahee.n milatee

kuchh nahee.n hogaa to aa.Nchal me.n chhupaa legee mujhe
maa.N kabhee sar pe khulee chhat nahee.n rahane degee

qadamo.n me.n laa ke Daal dee.n sab nemate.n magar
sautelee maa.N ko bachche se nafarat vahee rahee

dh.Nsatee huee qabro.n kee taraf dekh liyaa thaa
maa.N baap ke cheharo.n mee taraf dekh liyaa thaa

koee dukhee ho kabhee kahanaa nahee.n p .Dataa usase
vo zaroorat ko talabagaar se pahachaanataa hai
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: Munnawar Rana ki gazaleiN
« Reply #24 on: July 20, 2014, 05:23:53 PM »
किसी को देख कर रोते हुए हँसना नहीं अच्छा
ये वो आँसू हैं जिनसे तख़्ते—सुल्तानी पलटता है

दिन भर की मशक़्क़त से बदन चूर है लेकिन
माँ ने मुझे देखा तो थकन भूल गई है

दुआएँ माँ की पहुँचाने को मीलों मील जाती हैं
कि जब परदेस जाने के लिए बेटा निकलता है

दिया है माँ ने मुझे दूध भी वज़ू करके
महाज़े-जंग से मैं लौट कर न जाऊँगा

खिलौनों की तरफ़ बच्चे को माँ जाने नहीं देती
मगर आगे खिलौनों की दुकाँ जाने नहीं देती

दिखाते हैं पड़ोसी मुल्क आँखें तो दिखाने दो
कहीं बच्चों के बोसे से भी माँ का गाल कटता है

बहन का प्यार माँ की मामता दो चीखती आँखें
यही तोहफ़े थे वो जिनको मैं अक्सर याद करता था

बरबाद कर दिया हमें परदेस ने मगर
माँ सबसे कह रही है कि बेटा मज़े में है

बड़ी बेचारगी से लौटती बारात तकते हैं
बहादुर हो के भी मजबूर होते हैं दुल्हन वाले

खाने की चीज़ें माँ ने जो भेजी हैं गाँव से
बासी भी हो गई हैं तो लज़्ज़त वही रही


kisee ko dekh kar rote hue h.Nsanaa nahee.n achchhaa
ye vo aa.Nsoo hai.n jinase taKhte—sultaanee palaTataa hai

din bhar kee mashaqqat se badan choor hai lekin
maa.N ne mujhe dekhaa to thakan bhool ga_ee hai

duaae.N maa.N kee pahu.Nchaane ko meelo.n meel jaatee hai.n
ki jab parades jaane ke lie beTaa nikalataa hai

diyaa hai maa.N ne mujhe doodh bhee vazoo karake
mahaaze-j.ng se mai.n lauT kar n jaa_oo.Ngaa

khilauno.n kee taraf bachche ko maa.N jaane nahee.n detee
magar aage khilauno.n kee dukaa.N jaane nahee.n detee

dikhaate hai.n p .Dosee mulk aa.Nkhe.n to dikhaane do
kahee.n bachcho.n ke bose se bhee maa.N kaa gaal kaTataa hai

bahan kaa pyaar maa.N kee maamataa do cheekhatee aa.Nkhe.n
yahee tohafe the vo jinako mai.n aksar yaad karataa thaa

barabaad kar diyaa hame.n parades ne magar
maa.N sabase kah rahee hai ki beTaa maze me.n hai

b .Dee bechaaragee se lauTatee baaraat takate hai.n
bahaadur ho ke bhee majaboor hote hai.n dulhan vaale

khaane kee cheeze.n maa.N ne jo bhejee hai.n gaa.Nv se
baasee bhee ho ga_ee hai.n to lazzat vahee rahee
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale