Author Topic: Munnawar Rana ki gazaleiN  (Read 459 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Munnawar Rana ki gazaleiN
« on: July 13, 2013, 06:21:27 PM »
जब भी कश्ती मेरी सैलाब में आ जाती है     
माँ दुआ करती हुई ख़्वाब में आ जाती है
 
 रोज़ मैं अपने लहू से खत लिखता हूँ                       
रोज़ ऊँगली मेरी तेज़ाब में आ जाती है         

दिल की गलियों से तेरी याद निकलती ही नहीं 
सोहनी फिर इसी पंजाब में आ जाती है         

रात भर जागते रहने का सिला है शायद       
तेरी तस्वीर सी महताब में आ जाती है     
     
एक कमरे में बसर करता है सारा कुनबा         
सारी दुनिया दिले बेताब में आ जाती है         

ज़िन्दगी तू भी भिखारिन की रिदा ओढ़े हुए     
कूचा -ए -रेशम -ओ -कमख़्वाब में आ  जाती है

दुःख किसी का हो छलक जाती है मेरी आँखे   
सारी मिट्टी मेरे तालाब में आ जाती है           


jab bhi kashti meri sailaab meiN aa jaati hai
maaN duaa karti hui khavaab meiN aa jaati hai

roz maiN apne lahu se khat likhta hoon
roz ungali meri tezaab meiN aa jaati hai

dil ki galiyoN se teri yaad nikalti hi nahi
sohani fir isii punjaab meiN aa jaati hai

raat bhar jaagte rahne ka sila hai shaayad
teri tasveer si mehtaab meiN aa jaati hai

ek kamre mein basar karta hai saara kunba
saari duniya dil-e-betaab meiN aa jaati hai

zindgi tu bhi bhikhaaran ki rida oRhe hue
kucha-e-resham-o-kamkhvab meiN aa jaati hai


dukh kisi ka ho chhalak jaati haiN meri aankheiN
saari mitti mere talab meiN aa jaati hai






Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: Munnawar Rana ki gazaleiN
« Reply #1 on: July 13, 2013, 06:31:47 PM »
मुख़्तसर होते हुए भी ज़िन्दगी बढ़ जायेगी
माँ की ऑंखें चूम लीजै रौशनी बढ़ जायेगी

मौत का आना तो तय है मौत आयेगी मगर
आपके आने से थोड़ी ज़िन्दगी बढ़ जायेगी

इतनी चाहत से न देखा कीजिए महफ़िल में आप
शहर वालों से हमारी दुशमनी बढ़ जायेगी

आपके हँसने से खतरा और भी बढ़ जायेगा
इस तरह तो और आँखों की नमी बढ़ जायेगी

बेवफ़ाई खेल है इसको नज़र अंदाज़ कर
तज़किरा करने से तो शरमिन्दगी बढ़ जायेगी
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: Munnawar Rana ki gazaleiN
« Reply #2 on: July 13, 2013, 06:32:54 PM »
गुलाब रंग को तेरे कपास होना पड़े
न इतना हँस कि तुझे देवदास होना पड़े

gulaab rang ko tere kapaas hona paDe
na itna hans ke tujhe devdaas hona paDe

बला से जाती हैं आँखे तो फिर चली जायें
मैं उसको देख लूँ फिर देवदास होना पड़े

bala se jaati haiN aankheiN to fir chali jaayeiN
maiN usko dekh looN fir devdaas hona paDe

ये आरज़ू है कि गुज़रे इधर से वो चाहे
हमारी पलकों को रस्ते की घास होना पड़े

ye aarzoo hai ke guzare idhar se wo chaahe
hamaari palkoN ko raaste ki ghaas hona paDe


ये मोड़ वो है जहाँ खुदकुशी भी जाएज़ है
मेरी अना को अगर बेलिबास होना पड़े

ye moD vo hai jahaN khudkushi bhi jayaj hai
meri anaa ko agar belibaas hona paDe
« Last Edit: July 18, 2013, 12:59:56 PM by Rashmi »
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: Munnawar Rana ki gazaleiN
« Reply #3 on: July 16, 2013, 11:04:51 AM »

मियां मैं शेर हूँ
शेरो की गुर्राहट नहीं जाती
मैं लहज़ा नरम भी कर लू
तो झिन्झालाहत नहीं जाती

मैं एक दिन बेखयाली में
सच बोल बैठा था
मैं कोशिश कर चुका हूँ
मुंह की कड़वाहट नहीं जाती

जहाँ मैं हूँ वहाँ
आवाज़ देना जुर्म ठहरा है
जहाँ वो हैं वहाँ तक
पांव की आहट नहीं जाती

मोहब्बत का ये ज़ज्बा
जब खुदा की देन है भाई
तो मेरे रास्ते से क्यूँ
ये दुनियाहत नहीं जाती

वो मुझ से बे तकल्लुफ
हो के मिलता है मगर राणा
ना जाने क्यों मेरे चेहरे से
घबराहट नहीं जाती

Miyaan mein sher hoon
sheron ki gurrahat nahin jaati
Mein lehjaa narm bhi kar loon
to jhinjhlahat nahin jaati

Mein ek din be khyali mein
sach bol behtaa tha
Mein koshish kar chukaa hoon
munh ki karwahat nahin jaati

Jahan mein hoon wahan
aawaz denaa jurm tehraa hai
Jahan who hain wahan tak
paon ki aahat nahin jaati

Mohabbat ka yeh jazba jab
khudaa ki den hai bhai
Tu mere raaste se kyuon
yeh duniyaahat nahin jaati

Who mujh se be takkaluf
ho ke miltaa hai magar raana
Naa jane kyon mere cehre se
ghabraahat nahin jaati
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: Munnawar Rana ki gazaleiN
« Reply #4 on: July 17, 2013, 05:45:09 PM »
दुनिया तेरी रौनक से मैं अब ऊब रहा हूँ
तू चाँद मुझे कहती थी मैं डूब  रहा हूँ



Duniya teri raunak se main ab oob raha hooN
Tu chaand mujhe kahti thi main doob raha hooN

अब कोई शनासा भी दिखाई नहीं देता
बरसों मैं इसी शहर का महबूब रहा हूँ


 Ab koi shanaasa bhi dikhaaee nahiN deta
barsoN main isee shahar ka mehboob raha hooN
मैं ख़्वाब नहीं आपकी आँखों की तरह था
मैं आपका लहजा नहीं अस्लूब रहा हूँ


main khavaab nahiN aapki aankhoN ki tarah tha
main aapka lehja nahiN asloob raha hooN

इस शहर के पत्थर भी गवाही मेरी देंगे
सहरा भी बता देगा कि मजज़ूब रहा हूँ


Iss shahar ke patthar bhi gawaahi meri denge
Sahraa bhi bata dega ki majzoob raha hooN

रुसवाई मेरे नाम से मन्सूब रही है
मैं खुद कहाँ रुसवाई से मन्सूब रहा हूँ


Rusvaai mere naam se mansoob rahi hai
main khud kahaN ruswaai se mansoob raha hooN

दुनिया मुझे साहिल से खड़ी देख रही है
मैं एक जज़ीरे की तरह डूब रहा हूँ


Duniya mujhe saahil se khaRhe dekh rahi hai
main ek jazeere ki tarah doob raha hooN

फेंक आये थे मुझको भी मेरे भाई कुँए में
मैं सब्र से भी हज़रते अय्यूब रहा हूँ


Faink aaye the mujhko bhi mere bhaaii kueiN meiN
main sabar se bhi hazarte ayyoob raha hooN
« Last Edit: July 17, 2013, 05:47:16 PM by Rashmi »
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: Munnawar Rana ki gazaleiN
« Reply #5 on: July 18, 2013, 12:28:33 PM »
koyal bole ya goraiya achha lagta hai
apne gaawaN meiN sab kuchh bhaiya achha lagta hai


कोयल बोले या गौरैया अच्छा लगता है
अपने गाँव में सब कुछ भैया अच्छा लगता है


tere aageaaN maaN  bhi maussi lagti hai
teri god meiN Ganga maiyaa achha lagta hai


तेरे आगे माँ भी मौसी लगती है
तेरी गोद में गंगा मैया अच्छा लगता है


kaaga ki aawaj bhi chitThi jaisi lagti hai
peD pe baiTha ek gavaiya achha lagta hai


कागा की आवाज़ भी चिट्ठी जैसी लगती है
पेड़ पे बैठा एक गवैया अच्छा लगता है


maaya-moh buDhaape meiN baD jaata hai
bachpan meiN bus ek rupaiya achaa lagta hai


माया -मोह बुढ़ापे में बढ़ जाता है
बचपन में बस एक रुपैया अच्छा लगता है


khud hi DaanTe, khud hi lagaaye seene se
pyaar meiN uska ye bhi ravaiya achha lagta hai


खुद ही डांटे ,खुद ही लगाये सीने से
प्यार में उसका ये भी रवैया अच्छा लगता है
« Last Edit: July 18, 2013, 12:40:13 PM by Rashmi »
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: Munnawar Rana ki gazaleiN
« Reply #6 on: July 19, 2013, 01:41:23 PM »
muhabbat karne waaloN meiN ye jhagaDa daal deti hai
siyaasat dosti ki jaD mein matTHa daal deti hai

मुहब्बत करने वालों में ये झगड़ा डाल देती है
सियासत दोस्ती की जड़ में मट्ठा डाल देती है

twaayaf ki tarah apne galat kaamoN ke chehre par
hakoomat mandir-o-masjid ka parda daal deti hai

तवायफ़ की तरह अपने गलत कामों के चेहरे पर
हुकूमत मन्दिर -ओ -मस्जिद का पर्दा डाल देती है

hakumat munh-bharaai ke hunar se khoob vakif hai
ye har kutte ke aage shaahi tukaDa daal deti hai


हुकूमत मुँह -भराई के हुनर से खूब वाकिफ़ है
ये हर कुत्ते के आगे शाही टुकड़ा डाल देती है

kahaN ki hijrateiN, kaisa safar,kaisa juda hona
kisi ki chaah pairoN par dupaaTTa daal deti hai

कहाँ की हिजरतें ,कैसा सफ़र ,कैसा जुदा होना
किसी की चाह पैरों पर दुपट्टा डाल देती है
 
ye chiDiya bhi meri beti se kitnaa milti julti hai
kahiN bhi shaakh-e-gul dekhe to jhoola daal deti hai

ये चिड़िया भी मेरी बेटी से कितना मिलती -जुलती है
कहीं भी शाख -ए -गुल देखे तो झूला डाल देती है

hasad ki aag meiN jalati hai saari raat vo aurat
magar sautan ke aage apna jooTha daal deti hai
 
हसद की आग में जलती है सारी रात वो औरत
मगर सौतन के आगे अपना जूठा डाल देती है

« Last Edit: July 19, 2013, 01:44:12 PM by Rashmi »
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: Munnawar Rana ki gazaleiN
« Reply #7 on: July 21, 2013, 11:05:16 AM »
मैं इसके नाज़ उठाता हूँ सो ये ऐसा नहीं करती
ये मिटटी मेरे हाथों को कभी मैला नहीं करती

maiN iske naaz uThaata hooN so ye aisa nahi karti
ye mitti mere haathoN ko kabhi maila nahi karti

खिलौनों की दुकानों की तरफ़ से आप क्यूँ गुज़रे
ये बच्चे की तमन्ना है ये समझौता नहीं करती

khilaunoN ki dukaanoN ki taraf se aap kyoN guzare
ye bachche ki tamanna hai ye samjhota nahi karti

शहीदों की ज़मीं है इसको हिन्दुस्तान कहते हैं
ये बन्जर होके भी बुज़दिल कभी पैदा नहीं करती

shahidoN ki zameeN hai isko hindustaan kehate haiN
ye banjar hoke bhi buzdil kabhi paida nahi karti

मोहब्बत क्या है दिल के सामने मजबूर हो जाना
जुलेखा वरना  यूसुफ का कभी सौदा नहीं करती

mohabbat kya hai dil ke saamne majboor ho jaana
julekha varna yoosaf  ka kabhi sauda nahi karti

गुनहगारों की सफ़ में रख दिया मुझको ज़रूरत ने
मैं नामरहम हूँ लेकिन मुझसे ये परदा नहीं करती

gunahgaaroN ki saf meiN rakh diya mujh ko zaroorat ne
maiN naamharam hooN lekin mujh se ye pardaa nahi karti

अजब दुनिया है तितली के परों को नोच लेती है
अजब तितली है पर नुचने पे भी रोया नहीं करती

ajab duniya hai titli ke paroN ko noch leti hai
ajab titali hai par nuchane pe bhi royaa nahi karti


« Last Edit: July 21, 2013, 11:07:43 AM by Rashmi »
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: Munnawar Rana ki gazaleiN
« Reply #8 on: July 21, 2013, 12:00:07 PM »
शरीफ़ इंसान आखिर क्यों इलेक्शन हार जाता है
किताबों में तो लिक्खा है कि रावन हार जाता है

जुड़ी हैं इससे तहज़ीबें सभी तस्लीम करते हैं
नुमाइश में मगर मिट्टी का बरतन हार जाता है

मुझे मालूम है तूमनें बहुत बरसातें देखी है
मगर मेरी इन्हीं आँखों से सावन हार जाता है

अभी मौजूद है इस गाँव की मिट्टी में खुद्दारी
अभी बेवा की गैरत से महाजन हार जाता है

अगर एक कीमती बाज़ार की सूरत है दुनिया
तो फिर क्यों काँच की चूड़ी से कंगन हार जाता है
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: Munnawar Rana ki gazaleiN
« Reply #9 on: July 21, 2013, 12:01:10 PM »
हमारी ज़िन्दगी का इस तरह हर साल कटता है
कभी गाड़ी पलटती है ,कभी तिरपाल कटता है

दिखाते हैं पड़ोसी मुल्क आँखे तो दिखाने दो
कहीं बच्चों के बोसे से भी माँ का गाल कटता है

इसी उलझन में अक्सर रात आँखों में गुजरती है
बरेली को बचाते हैं तो नैनीताल कटता है

कभी रातों के सन्नाटे में भी निकला करो घर से
कभी देखा करो गाड़ी से कैसे माल कटता है

सियासी वार भी तलवार से कुछ कम नहीं होता
कभी कश्मीर जाता है ,कभी बंगाल कटता है
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

madhur

  • Full Member
  • ***
  • Posts: 140
Re: Munnawar Rana ki gazaleiN
« Reply #10 on: July 25, 2013, 05:29:21 PM »
thanks again

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: Munnawar Rana ki gazaleiN
« Reply #11 on: October 05, 2013, 03:26:34 PM »
मुहाजिर हैं मगर एक दुनिया छोड़ आए हैं
तुम्हारे पास जितना है हम उतना छोड़ आए हैं

हँसी आती है अपनी अदाकारी पे खुद हमको
कि बने फिरते हैं यूसुफ़ और ज़ुलेख़ा छोड़ आए हैं

जो एक पतली सड़क उन्नाव से मोहान जाती थी
वहीं हसरत के ख़्वाबों को भटकता छोड़ आए हैं

वजू करने को जब भी बैठते हैं याद आता है
कि हम उजलत में जमना का किनारा छोड़ आए हैं

उतार आए मुरव्वत और रवादारी का हर चोला
जो एक साधू ने पहनाई थी माला छोड़ आए हैं

ख़याल आता है अक्सर धूप में बाहर निकलते ही
हम अपने गाँव में पीपल का साया छोड़ आए हैं

ज़मीं-ए-नानक-ओ-चिश्ती, ज़बान-ए-ग़ालिब-ओ-तुलसी
ये सब कुछ था पास अपने, ये सारा छोड़ आए हैं

दुआ के फूल पंडित जी जहां तकसीम करते थे
गली के मोड़ पे हम वो शिवाला छोड़ आए हैं

बुरे लगते हैं शायद इसलिए ये सुरमई बादल
किसी की ज़ुल्फ़ को शानों पे बिखरा छोड़ आए हैं

अब अपनी जल्दबाजी पर बोहत अफ़सोस होता है
कि एक खोली की खातिर राजवाड़ा छोड़ आए हैं 
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: Munnawar Rana ki gazaleiN
« Reply #12 on: October 05, 2013, 03:29:05 PM »
Sab ke kehne se irada nahi badla jaata,
Har saheli se dupatta nahi badla jaata,

Hum ke shayar hai, sihyasat nahi aati humko,
Humse muh dekh ke, lehza nahi badla jaata,

Hum fakiron ko fakiri ka nasha rehta hai,
Warna kya sheher mein shajra nahi badla jata ?

Aisa lagta hai ke woh Bhool gaya hai humko,
Ab kabhi khidki ka parda nahi badla jaata,

Jab rulaya hai, to hasne pe na majboor karo,
Roz bimar ka nuskha nahi badla jaata,

Ghum se fursat hi kahan hai ke tujhe yaad karoon,
Itni laashen hai to kadhan nahi badla jaata,

Umrr ek talkh haqiqat hai doston phir bhi,
Jitne tum Badle ho, Utna nahi badla jaata...

« Last Edit: October 06, 2013, 12:47:07 PM by Rashmi sharma »
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: Munnawar Rana ki gazaleiN
« Reply #13 on: October 06, 2013, 12:56:56 PM »


Safed Poshi tera aitbaar jaata hai,
Agar chiraag hawaaon se haar jata hai.

Kadam badhane mein khatra hai Maut ka lekin,
Mein LauTta hoon to sara waqar jata hai.

Karen naseeb se shikwa ya mausamo ka gila,
Badal ke raasta Abr-e-bahaar jata hai.

Mein apna lehza to tabdeel kar nahi sakta,
balaa se jaaye agar Karobaar jata hai.
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Venus Sandal

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 345
Re: Munnawar Rana ki gazaleiN
« Reply #14 on: May 29, 2014, 10:38:58 AM »
Thanx rashmi ji....inhe share krne k liye...
zoya****

Lau  hi lau sii ..... saik nhi si
Vekh lya main jugnu phd ke
:-Meesa.