Author Topic: खत लिखके प्रेम का मैं खताकार हो गया  (Read 150 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Susheel Bharti

  • Newbie
  • *
  • Posts: 22
बहर 2212121 1221212

खत लिखके प्रेम का मैं खताकार हो गया।
कागज़ पे खून देख मेरा यार रो गया।

खत पर जो दिल के ज़ख्म उभर आए थे कभी,
हर ज़ख्म उनके दिल में बहुत दर्द बो गया।

मेरे जिगर के खून ने दी कांटों सी खलिश,
हर लफ्ज़ दिल का खून से पलकें भिगो गया।

दिल पिघला यार पूरा थी स्याही में वो चमक,
अश्कों से मेरा यार वो कागज़ ही धो गया।

उस प्रेम पत्र के दर्द में डूबा वो यार यूँ,
मानो चकोर चाँद की अलफत में खो गया।

लांघी कलम ने दर्द की सरहदें तमाम जब,
तब दर्द से कराहते वो यार सो गया।

मेरा गुनाह था की हदें पार ईश्क में,
जब खून में कलम था लगा वक्त वो गया।

रचनाकार-- सुशील भारती, नित्थर, कुल्लू, (हि.प्र.)   

Fikr

  • Newbie
  • *
  • Posts: 44
bhayee bahut khoob bahut acha lagaa... ki kaafi ya bahut sudhaar aayaa hai... ab lag raha hai ki nayee shuruaat ki hai aur achi shuraat

Sagar

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 326
  • Gender: Male
  • Be melting snow~ Rumi
लांघी कलम ने दर्द की सरहदें तमाम जब,  is misre ke liye khaas daad
मोमिन न मैं फ़िराक न ग़ालिब न मीर हूँ
इक आग का गोला हूँ मैं अर्जुन का तीर हूँ

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
बहर 2212121 1221212

खत लिखके प्रेम का मैं खताकार हो गया।
कागज़ पे खून देख मेरा यार रो गया।

खत पर जो दिल के ज़ख्म उभर आए थे कभी,
हर ज़ख्म उनके दिल में बहुत दर्द बो गया।

मेरे जिगर के खून ने दी कांटों सी खलिश,
हर लफ्ज़ दिल का खून से पलकें भिगो गया।

दिल पिघला यार पूरा थी स्याही में वो चमक,
अश्कों से मेरा यार वो कागज़ ही धो गया।

उस प्रेम पत्र के दर्द में डूबा वो यार यूँ,
मानो चकोर चाँद की अलफत में खो गया।

लांघी कलम ने दर्द की सरहदें तमाम जब,
तब दर्द से कराहते वो यार सो गया।

मेरा गुनाह था की हदें पार ईश्क में,
जब खून में कलम था लगा वक्त वो गया।

रचनाकार-- सुशील भारती, नित्थर, कुल्लू, (हि.प्र.)   
waah sushil ji  nikhaar aa raha hai dheere dheere aap ki lekhni meiN ..bahut din baad yahaN hazri lagaai aapne
ummid hai aap ko niymat yahaN padeinge  ...bahut khoob ..or achha achha  likhte rahiye :)
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Musaahib

  • Hindvi
  • *
  • Posts: 54
Waah Waah Waah Susheel jee bahut acchhi ghazal huii hai, dheroN daad qubool kareN..

Sarwar Alam Raz

  • Newbie
  • *
  • Posts: 1
janaab Bharti saaheb: aadaab!

is mehfil meN aaye huwe mujh ko ek zamaanah beet gayaa. Vikas ko main zaroor yaad hooN gaa! ab aayaa hooN to sochaa keh kuchh likh bhee jaa,ooN. ummeed hai keh aap ko meraa likhnaa buraa naheeN lage gaa.

aap kee Ghazal mujh ko achhee lagee. is meN aap ne Ghazal ke taqaazoN kaa lihaaz rakhaa hai agar-cheh de ek jagah thoRee see chook ho gayee hai. daad qubool keejiye. agar aap apne she'roN ke ma'nee phailaa sakeN aur yaksaaniyat se bach sakeN to behtar ho gaa. do she'roN meN aap wazn (meter) qaayem naheeN rakh sake haiN. in ko phir dekh leejiye. wo sher yeh haiN:

उस प्रेम पत्र के दर्द में डूबा वो यार यूँ,
मानो चकोर चाँद की अलफत में खो गया।

लांघी कलम ने दर्द की सरहदें तमाम जब,
तब दर्द से कराहते वो यार सो गया।

donoN she'roN ke Pehle miSre wazn yanee meter meN Ghalat haiN. ummeed hai keh thoRee see koshish se durust ho jaayeN ge. aap kee doosree Ghazal kaa intizaar rahe gaa.

Sarwar Raz