Author Topic: बशीर बद्र साहब  (Read 72 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

seema

  • Newbie
  • *
  • Posts: 12
बशीर बद्र साहब
« on: April 16, 2015, 06:36:36 AM »
वो थका हुआ मेरी बाहों में ज़रा सो गया था तो क्या हुआ
अभी मैं ने देखा है चाँद भी किसी शाख़-ए-गुल पे झुका हुआ

जिसे ले गई है अभी हवा वो वरक़ था दिल की किताब का
कहीं आँसुओं से मिटा हुआ कहीं आँसुओं से लिखा हुआ

कई मील रेत को काट कर कोई मौज फूल खिला गई
कोई पेड़ प्यास से मर रहा है नदी के पास खड़ा हुआ

मुझे हादसों ने सजा सजा के बहुत हसीन बना दिया
मेरा दिल भी जैसे दुल्हन का हाथ हो मेहन्दियों से रचा हुआ

वही ख़त के जिस पे जगह जगह दो महकते होंठों के चाँद थे
किसी भूले-बिसरे से ताक़ पर तह-ए-गर्द होगा दबा हुआ

वही शहर है वही रास्ते वही घर है और वही लान भी
मगर उस दरीचे से पूछना वो दरख़त अनार का क्या हुआ

मेरे साथ जुगनू है हमसफ़र मगर इस शरर की बिसात क्या
ये चराग़ कोई चराग़ है न जला हुआ न बुझा हुआ

बशीर बद्र

Musaahib

  • Hindvi
  • *
  • Posts: 54
Re: बशीर बद्र साहब
« Reply #1 on: April 16, 2015, 09:10:46 AM »
Seema ji aapka bahut bahut swagat hai is forum pe. Or aapne aate hi itni behtareen shuruaat ki hai ki mat puchiye.. Bashir Badra sahab mere bhi mahboob shayar haiN.
Inhe Muhabbat ka shayar kaha jata hai.

seema

  • Newbie
  • *
  • Posts: 12
Re: बशीर बद्र साहब
« Reply #2 on: April 27, 2015, 09:50:38 AM »
शुक्रिया मुसाहिब जी

वाकई बशीर बद्र साहब का अंदाज़े बयाँ बेमिसाल है।

Aarti

  • Administrator
  • *****
  • Posts: 80
  • Gender: Female
Re: बशीर बद्र साहब
« Reply #3 on: May 06, 2015, 06:55:19 AM »
वो थका हुआ मेरी बाहों में ज़रा सो गया था तो क्या हुआ
अभी मैं ने देखा है चाँद भी किसी शाख़-ए-गुल पे झुका हुआ

जिसे ले गई है अभी हवा वो वरक़ था दिल की किताब का
कहीं आँसुओं से मिटा हुआ कहीं आँसुओं से लिखा हुआ

कई मील रेत को काट कर कोई मौज फूल खिला गई
कोई पेड़ प्यास से मर रहा है नदी के पास खड़ा हुआ

मुझे हादसों ने सजा सजा के बहुत हसीन बना दिया
मेरा दिल भी जैसे दुल्हन का हाथ हो मेहन्दियों से रचा हुआ

वही ख़त के जिस पे जगह जगह दो महकते होंठों के चाँद थे
किसी भूले-बिसरे से ताक़ पर तह-ए-गर्द होगा दबा हुआ

वही शहर है वही रास्ते वही घर है और वही लान भी
मगर उस दरीचे से पूछना वो दरख़त अनार का क्या हुआ

मेरे साथ जुगनू है हमसफ़र मगर इस शरर की बिसात क्या
ये चराग़ कोई चराग़ है न जला हुआ न बुझा हुआ

बशीर बद्र

very nice sharing seema ji