Author Topic: Guftgoo Renu Nayar ji se  (Read 388 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: Guftgoo Renu Nayar ji se
« Reply #45 on: December 19, 2014, 04:47:16 PM »
रश्मि जी, सब से पहले तबियत के कारण देरी से आने के लिए माफ़ी चाहती हूँ । कोशिश करती हूँ सिलसिलेवार जवाब देने की

कहानी काफी लम्बी थी, जिसे अनुवाद करना मुमकिन नहीं लग रहा, पर वो कहानी डेरावाद के ख़िलाफ़ थी ।

एक बार एक ऑनलाइन राइटिंग कॉन्टेस्ट में मेरी एक रचना प्रथम आई उसी रचना को मैं टर्निंग प्वाइंट मानती हूँ, फ़िलहाल उसका अनुवाद करना भी  मुश्किल है । 

पुराने ग़ज़ल लिखने वालों में मैंने सब से ज़्यादा डा. बशीर बद्र साहब को पढ़ा है, उन्हीं की ग़ज़ल बेहद पसंद आई है । नए में से मुनव्वर राणा , अतुल अजनबी, प्रो.वसीम बरेलवी आदि कई नाम हैं ।
bahut achha laga aapko fir se yahaN dekh ke
baaki kahani agar aap ke paas kahiN online padi hai to use copy paste kar dijiye ,,,anubaad nahi bhi kariye  ,,,agar possible ho to

aap ki jo bhi rachna aap ke  dil ke behad kareeb ho ..ek ya ek se jyada bhi ,,,hamaare saath share kijiye


zindgi ke kuchh aise khatte mithe pal jo bhulaane se bhi na bhoole hoN ,,,,kya haiN aise pal ?

:)  milte haiN jaldi hi :)

Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale