Author Topic: Guftgoo Renu Nayar ji se  (Read 394 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: Guftgoo Renu Nayar ji se
« Reply #30 on: November 23, 2014, 05:47:14 PM »
रश्मि जी, मेरे जवाबों को पसंद करने के लिए शुक्रिया, नज़्म पसंद करने का भी शुक्रिया, आपके बाकी सवालों के जवाबों के साथ जल्द हाज़िर हूँगी ।
ji intzaar rahega :)
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

renu nayyar

  • Newbie
  • *
  • Posts: 18
Re: Guftgoo Renu Nayar ji se
« Reply #31 on: November 24, 2014, 02:13:32 PM »
रश्मि  जी,आपके अगले सवालों के जवाबों के साथ हाज़िर हूँ, सिलसिलेवार जवाब इस तरह से हैं

१.  मुझे हर तरह का साहित्य पढ़ना पसंद है । नावल, कहानी, गीत, ग़ज़ल, कविता (लेख मुझे कभी कभी बोर करते हैं  :) ) ।  मेरे पिता जी ने यह आदत मुझे दी है।  बचपन में ढेरों      कॉमिक्स वो हमें ला कर देते थे । थोड़े बड़े हुए तो ये शौक नंदन, चम्पक में बदल गया । फिर वेद प्रकाश शर्मा के नॉवेलस फिर सरिता, ग्रहशोभा भी ।

२. पंजाबी के लेखक / लेखिका में से अमृता प्रीतम की कविता और दलीप कौर टिवाणा की कहानियां बेहद पसंद हैं । प्रो. पूरन सिंह की कविताये भी अच्छी लगती हैं ।

३. हिंदी के लेखक /लेखिका सिलेबस में जितने पढ़े हैं उन में से हरिवंश राय बच्चन, मुंशी प्रेम चाँद, महादेवी वर्मा , निराला आदि

४. इतना जो मैंने पढ़ा, सब ने ही मुझे प्रेरणा दी है । इन्हीं सब की बदौलत कविता और ग़ज़ल के साथ साथ कुछ कहानियाँ भी लिखीं हैं, जो अख़बारों में भी छपी हैं । 

renu nayyar

  • Newbie
  • *
  • Posts: 18
Re: Guftgoo Renu Nayar ji se
« Reply #32 on: November 24, 2014, 02:15:37 PM »
नमस्कार रेनू जी। आपके बारे जानकर अच्छा लगा।
आपके पसंदीदा लेखक हिंदी और पँजाबी के कौन -कौन हैं जिन्हें आप हमेशा पढ़ना चाहेंगी?


raazkibaat : आप के सवाल का जवाब भी मेरी ऊपर वाली पोस्ट में आ गया है । 
« Last Edit: November 24, 2014, 02:27:26 PM by renu nayyar »

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: Guftgoo Renu Nayar ji se
« Reply #33 on: November 24, 2014, 04:01:16 PM »
रश्मि  जी,आपके अगले सवालों के जवाबों के साथ हाज़िर हूँ, सिलसिलेवार जवाब इस तरह से हैं

१.  मुझे हर तरह का साहित्य पढ़ना पसंद है । नावल, कहानी, गीत, ग़ज़ल, कविता (लेख मुझे कभी कभी बोर करते हैं  :) ) ।  मेरे पिता जी ने यह आदत मुझे दी है।  बचपन में ढेरों      कॉमिक्स वो हमें ला कर देते थे । थोड़े बड़े हुए तो ये शौक नंदन, चम्पक में बदल गया । फिर वेद प्रकाश शर्मा के नॉवेलस फिर सरिता, ग्रहशोभा भी ।
Ufff sab kuchh mera hai ....  same here ji
२. पंजाबी के लेखक / लेखिका में से अमृता प्रीतम की कविता और दलीप कौर टिवाणा की कहानियां बेहद पसंद हैं । प्रो. पूरन सिंह की कविताये भी अच्छी लगती हैं ।

३. हिंदी के लेखक /लेखिका सिलेबस में जितने पढ़े हैं उन में से हरिवंश राय बच्चन, मुंशी प्रेम चाँद, महादेवी वर्मा , निराला आदि

४. इतना जो मैंने पढ़ा, सब ने ही मुझे प्रेरणा दी है । इन्हीं सब की बदौलत कविता और ग़ज़ल के साथ साथ कुछ कहानियाँ भी लिखीं हैं, जो अख़बारों में भी छपी हैं ।
renu ji  aise lagta hai jaise main apne bachpan mein laut gai hooN vahi magzine wahi books vahi sab kuchh  ..shayad pocket  novels bhi pade honge aapne   :)
Chaliye aage badte hain
Apni koi kahani bhi share kijiye hamaare saath
Aisi rachna jo tourning point Le aai ho aapki lekhni meiN
Hum chaheinge use bhi share kijiye
Kaunse ghazalwriter aap ko jyada parbhavit karte haiN
Naye o rpuraane dono meiN  se bataiye   
Abhi itna hi jaldi hi phir hazir hote haiN  haiN aapki mahfil meiN  tab tak ke liyeshaba khair khush rahiye muskuraate rahiye
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

ridham

  • Full Member
  • ***
  • Posts: 206
Re: Guftgoo Renu Nayar ji se
« Reply #34 on: November 30, 2014, 09:56:49 AM »
phir se kuchh atpate swaal leke hazir hai.n...

doosre ki thaali ka laddu hamesha.n  bada lagta hai ..
kaha.n  ta k satya hai?
kya hum kisi bhi insaan ko achhe se jante hai.n ye dawa kar sakte hai.n?
kya har chehra kai chehre liye hota hai ?

jaldi hi baapis aayei.nge ....intzaar rahega aapke jawaabo.n ka


renu nayyar

  • Newbie
  • *
  • Posts: 18
Re: Guftgoo Renu Nayar ji se
« Reply #35 on: December 07, 2014, 08:38:59 AM »
दोस्तों, कुछ कारणों से जवाब नहीं दे पाई, जल्दी ही आती हूँ इस तरफ़  :)

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: Guftgoo Renu Nayar ji se
« Reply #36 on: December 08, 2014, 12:58:21 PM »
दोस्तों, कुछ कारणों से जवाब नहीं दे पाई, जल्दी ही आती हूँ इस तरफ़  :)
ji Renu ji hum raah meiN hi khade haiN intzaar meiN ....get well soon
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

renu nayyar

  • Newbie
  • *
  • Posts: 18
Re: Guftgoo Renu Nayar ji se
« Reply #37 on: December 18, 2014, 06:56:01 AM »
रश्मि जी, सब से पहले तबियत के कारण देरी से आने के लिए माफ़ी चाहती हूँ । कोशिश करती हूँ सिलसिलेवार जवाब देने की

कहानी काफी लम्बी थी, जिसे अनुवाद करना मुमकिन नहीं लग रहा, पर वो कहानी डेरावाद के ख़िलाफ़ थी ।

एक बार एक ऑनलाइन राइटिंग कॉन्टेस्ट में मेरी एक रचना प्रथम आई उसी रचना को मैं टर्निंग प्वाइंट मानती हूँ, फ़िलहाल उसका अनुवाद करना भी  मुश्किल है । 

पुराने ग़ज़ल लिखने वालों में मैंने सब से ज़्यादा डा. बशीर बद्र साहब को पढ़ा है, उन्हीं की ग़ज़ल बेहद पसंद आई है । नए में से मुनव्वर राणा , अतुल अजनबी, प्रो.वसीम बरेलवी आदि कई नाम हैं ।

renu nayyar

  • Newbie
  • *
  • Posts: 18
Re: Guftgoo Renu Nayar ji se
« Reply #38 on: December 18, 2014, 07:09:25 AM »
Ridham जी, आपके सवालों के जवाब देने की कोशिश की है, देखिएगा ................


दूसरों की थाली का लड्डू हमेशा बड़ा लगता है, ये सौ फीसदी सही है, पर हमें दूसरों के ग़म भी अपने से बड़े कर के देखने चाहियें । ख़ुद ब ख़ुद लगने लगेगा कि 'दुनिया में कितना ग़म है, मेरा ग़म कितना कम है ' ।

किसी भी इंसान को अच्छे से जानने का दावा हम बेशक करें पर सच यही हैं कि एक इंसान में कितने इंसान छिपे रहते हैं । कई बार तो मैं ख़ुद पे भी हैरान हो जाती हूँ जब किसी बात पे unexpected react करती हूँ ।

एक चेहरा कई चेहरे लिए होता है …………………… जी, बिलकुल, वही ऊपर वाली बात ही है, एक चेहरे पे कई चेहरे लगा लेते हैं लोग

Tarkash

  • Hindvi
  • *
  • Posts: 75
Re: Guftgoo Renu Nayar ji se
« Reply #39 on: December 18, 2014, 05:18:29 PM »
Renu Mam! namste.

aap ke baare me itna kuch jaanne ka maukA mila uske liye team hindvi ka shukrg uzar hu.. p
KYA POOCHUN...

dayar-e-ishq me shayri ka makaam kya hai.. AAPKE VICHAR

Sahil

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 84
Re: Guftgoo Renu Nayar ji se
« Reply #40 on: December 18, 2014, 05:37:32 PM »
Namaskar Renu ji.

m bas ye jaanna chahunga ki aapki sabse pasandida shayri/ghazal/nazm konsi hai ?
and khaaskar Dr. Bashir Badr shahab ki ?

shukriya

Musaahib

  • Hindvi
  • *
  • Posts: 54
Re: Guftgoo Renu Nayar ji se
« Reply #41 on: December 18, 2014, 05:44:45 PM »
Renu Jee Namaskar..
Waise to jehan meN bahut saare sawaal aate hai or muaafi chahunga ki mujhe dusra sawaal poochne meN thoda waqt lag gaya. Actually main apne MCA ke papers me thoda buzy tha.
Mujhe likhne ka shauk to bachpan se hai or pahle kavitayen likhta tha fir kuch tooti footi shayari karne laga or fir ab thodi bahut ghazal me haath aazmaa raha hu.

Jaise hi ghazal ki baat aati hai hamare zehan sabse pahle baat aati hai Behr ki. Main janna chahunga ki aapne behr ki taaleem kaha se li. Ya aapke ustaad kaun haiN.
Generally log wazn likhte hain or use hi behr ka naam de dete hai, Mujhe khushi hogi agar aap thodi si jaankari behr ke bare meN hamare beech sajha kareN.

Besabree se Intezaar rahega aapke jawaab ka.

Aanchal

  • Guest
Re: Guftgoo Renu Nayar ji se
« Reply #42 on: December 18, 2014, 05:46:59 PM »
Aadaab Renu ji..!

Kaise hain aap?
Aap itna khoobsoorat likhti hain. .aur aapke tamaam replies parh apki saadgi bhi nazar aati hai.

Mera sawaal ye hai ki Poetry sirf ek art hai ya science bhi,aur yadi science bhi hai toh kis hadd tak, aur kaise..

 aapse bohut kuchh seekhne ki chaah hai, aur ye swaal, ussi  koshish me kiya hai..

:)

masoomshayer

  • Newbie
  • *
  • Posts: 5
Re: Guftgoo Renu Nayar ji se
« Reply #43 on: December 19, 2014, 01:53:10 AM »
renu jee sab se pahale to is shandaar guft-o-gu ke liye badhayee aur hameshaa safalataa kee kamanaa kartaa hoon meraa sawal mere apane anubhav se ugaa hai kya kayee baar kayee kayee din tak aisaa lagata hai jaise kuch bhee khayal nahee aa rahe kuch likhaa nahee jaa rahaa hai....agar haan to aisaa waqt kaise guzarataa hai dil kaisa mahsoos kartaa hai un dino men?

Anil masoomshayer

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: Guftgoo Renu Nayar ji se
« Reply #44 on: December 19, 2014, 04:38:58 PM »
kyonki Renu ji ki tabiut kuchh nasaz thi ,,,wo kuchh din jawaab nahi de paai...or isi ke muddenazar is interview ka samaya bada diya gaya hai ...abhi ye 31 dec tak chalegi ...
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale