Author Topic: जाने क्यूँ संघदिल से ही फिर इश्क़ फ़रमाता हूँ मैं  (Read 78 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Sagar

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 326
  • Gender: Male
  • Be melting snow~ Rumi
२१२२ २१२२ २१२२ २१२

जाने क्यूँ संघदिल से ही फिर इश्क़ फ़रमाता हूँ मैं
राज़ लाता हूँ लबों तक और पछताता हूँ मैं

ज़ब्त कर के हर ख़लिश इस ज़िन्दगी के नाम पर
महफ़िलों में गीत गाता नाचता जाता हूँ मैं

कुछ सितारे आसमाँ से टूट कर गिर जाएंगे
रात भर छत पे खड़ा हो नज़रें दौड़ाता हूँ मैं

साक़िया के गेसुओं में जब उलझती उंगलियां
वो लिपट जाता है मुझसे यूँ सुलझ जाता हूँ मैं

एक सूरज की तरह बस फ़ितरतन हर शाम ही
सागरों में डूब जाता हूँ निकल आता हूँ मैं

~Sagar
मोमिन न मैं फ़िराक न ग़ालिब न मीर हूँ
इक आग का गोला हूँ मैं अर्जुन का तीर हूँ

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Jaldi hi aapki ghazal pe bapis aati hooN :)
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Fikr

  • Newbie
  • *
  • Posts: 44
महफ़िलों में गीत गाता नाचता जाता हूँ मैं

haye is misre par kaise daad dun... aahaa aahaaa kya aalam hai

jio

Sagar

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 326
  • Gender: Male
  • Be melting snow~ Rumi
shukria sir...

Jigar Muradabadi ki ghazal sun raha tha ek din.. suante sunate kuchh likh diya bas,,,

SHAYAR-AE-FITRAT HUN MAIN JAB FIKR FARMAATA HUN MAIN
ROOH BAN KAR ZARRE ZARRE ME SAMAA JAATA HUN MAIN

Regards.
मोमिन न मैं फ़िराक न ग़ालिब न मीर हूँ
इक आग का गोला हूँ मैं अर्जुन का तीर हूँ

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
२१२२ २१२२ २१२२ २१२

जाने क्यूँ संघदिल से ही फिर इश्क़ फ़रमाता हूँ मैं
राज़ लाता हूँ लबों तक और पछताता हूँ मैं
waaah kya khyaal hai ,,,,raz lata hooN lavoN pe or pachhtata hooN maiN

ज़ब्त कर के हर ख़लिश इस ज़िन्दगी के नाम पर
महफ़िलों में गीत गाता नाचता जाता हूँ मैं
ufff   ,,,,,,,,,,khalish chhupa ke har mahfil meiN khush rahna ,,,,kya baat


कुछ सितारे आसमाँ से टूट कर गिर जाएंगे
रात भर छत पे खड़ा हो नज़रें दौड़ाता हूँ मैं
waaaah ........intzaar..........

साक़िया के गेसुओं में जब उलझती उंगलियां
वो लिपट जाता है मुझसे यूँ सुलझ जाता हूँ मैं
waaah

एक सूरज की तरह बस फ़ितरतन हर शाम ही
सागरों में डूब जाता हूँ निकल आता हूँ मैं
waaah kya manjar hai .....
~Sagar
« Last Edit: November 04, 2014, 08:33:41 AM by Rashmi »
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Aanchal

  • Guest

Tarkash

  • Hindvi
  • *
  • Posts: 75
बहुत उम्दा साहब

Sagar

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 326
  • Gender: Male
  • Be melting snow~ Rumi
Bahot shukria..khaaskar Rashmi ji ka, jinke hone se Hindvi pe aana jaana laga rehta hai...
मोमिन न मैं फ़िराक न ग़ालिब न मीर हूँ
इक आग का गोला हूँ मैं अर्जुन का तीर हूँ

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Bahot shukria..khaaskar Rashmi ji ka, jinke hone se Hindvi pe aana jaana laga rehta hai...
shukriya Saagar .....aana jana ni ,,,,,,,,, ab sirf aana,,,,,,,,,,,, jana nahi :)
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Sagar

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 326
  • Gender: Male
  • Be melting snow~ Rumi
Main gaya waqt to nahi
Jo laut ke aa na saku.n
:)
मोमिन न मैं फ़िराक न ग़ालिब न मीर हूँ
इक आग का गोला हूँ मैं अर्जुन का तीर हूँ

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
« Last Edit: December 01, 2014, 04:50:22 AM by Rashmi »
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale