Author Topic: karwaN tha ruk gaya  (Read 46 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
karwaN tha ruk gaya
« on: September 15, 2014, 06:19:02 PM »
कारवां था रुक गया मंजिले चलने लगीं
देखते ही देखते बस्तियां जलने लगी

कीमते जब से बड़ी होशियारी देखिये
हाथ आई मछलियाँ जल में ही तलने लगी

बहर में ही मैं लिखूं ,ये जरूरी तो नहीं
कौन जाने कब ग़ज़ल, सांस में ढलने लगी

मुझ से मेरी जात का  ले हलफनामा लिया
ये तेरी दुनिया नई चाल फिर चलने लगी

जब से मुर्दा जिस्म में जान तुम ने फूंक दी
धड़कने हैं साज़ सी ,,खवाहिशें पलने लगीं

जिंदगी की दौड़ में, मैं पशेमां* यूं हुई
कुछ बुझी सी हसरतें हाथ अब मलने लगीं

क्यों करूँ अफ़सोस मैं जा रही इस जान का
ख़ाक से पैदा हुई ,,ख़ाक में मिलने लगी

रात थी काली बहुत ,,ग़म के साए साथ थे
नाम तेरा ले लिया बेकसी टलने लगी

क्यों हुआ खामोश तू ऐ खुदा-ए-पाक अब
रश्मि को चुप्पी तेरी ,अब बहुत खलने लगी
« Last Edit: October 15, 2014, 06:17:56 PM by Rashmi »
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Sagar

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 326
  • Gender: Male
  • Be melting snow~ Rumi
Re: karwaN tha ruk gaya
« Reply #1 on: September 17, 2014, 06:17:21 AM »
bahot khoob Rashmi ji
मोमिन न मैं फ़िराक न ग़ालिब न मीर हूँ
इक आग का गोला हूँ मैं अर्जुन का तीर हूँ

kunaal

  • Hindvi
  • *
  • Posts: 45
Re: karwaN tha ruk gaya
« Reply #2 on: October 15, 2014, 04:55:21 PM »
Bohat hi khoob aashaar pesh kiye hai aapne rashmi ji

Mubaraq ho ye khyaal

Ruby Singh

  • Newbie
  • *
  • Posts: 24
Re: karwaN tha ruk gaya
« Reply #3 on: November 06, 2014, 11:37:36 AM »
कारवां था रुक गया मंजिले चलने लगीं
देखते ही देखते बस्तियां जलने लगी

कीमते जब से बड़ी होशियारी देखिये
हाथ आई मछलियाँ जल में ही तलने लगी

बहर में ही मैं लिखूं ,ये जरूरी तो नहीं
कौन जाने कब ग़ज़ल, सांस में ढलने लगी

मुझ से मेरी जात का  ले हलफनामा लिया
ये तेरी दुनिया नई चाल फिर चलने लगी

जब से मुर्दा जिस्म में जान तुम ने फूंक दी
धड़कने हैं साज़ सी ,,खवाहिशें पलने लगीं

जिंदगी की दौड़ में, मैं पशेमां* यूं हुई
कुछ बुझी सी हसरतें हाथ अब मलने लगीं

क्यों करूँ अफ़सोस मैं जा रही इस जान का
ख़ाक से पैदा हुई ,,ख़ाक में मिलने लगी

रात थी काली बहुत ,,ग़म के साए साथ थे
नाम तेरा ले लिया बेकसी टलने लगी

क्यों हुआ खामोश तू ऐ खुदा-ए-पाक अब
रश्मि को चुप्पी तेरी ,अब बहुत खलने लगी
[/quote

kya khoob likhaa hai

Ruby Singh

  • Newbie
  • *
  • Posts: 24
Re: karwaN tha ruk gaya
« Reply #4 on: November 06, 2014, 11:39:04 AM »
bahot khoob Rashmi ji

arjun ka teer........ gazab

Aanchal

  • Guest
Re: karwaN tha ruk gaya
« Reply #5 on: November 06, 2014, 06:33:42 PM »
Bahut khuub.. Bahatereen ghazal likhi hai apne Rashmi ji

Behr me hi mai likhun ye zaruri toh nahin
Koun Jane kab ghazal saans me dhalne lagi

Aahhaahh..!! Khuubsuurat..


Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: karwaN tha ruk gaya
« Reply #6 on: November 07, 2014, 07:12:37 PM »
bahot khoob Rashmi ji
shukriya saagar
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: karwaN tha ruk gaya
« Reply #7 on: November 12, 2014, 05:57:15 PM »
Bohat hi khoob aashaar pesh kiye hai aapne rashmi ji

Mubaraq ho ye khyaal
shukriya kunal ......aate rahiye hamaari hi nahi har post pe aaiye ....padiye or padaaiye
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Musaahib

  • Hindvi
  • *
  • Posts: 54
Re: karwaN tha ruk gaya
« Reply #8 on: November 13, 2014, 07:37:41 AM »
Bahut hi Umdaa'H ....Lajawaab...:)