Author Topic: ज़हन की करवट  (Read 142 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Venus Sandal

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 345
ज़हन की करवट
« on: July 31, 2014, 06:27:05 AM »
सुबहा के यही कोई तीन बजे होंगे शायद
हवा भी सर्द थी , ......चाँद भी ओझल था !
जेहन की करवट से माजी की किताब खुल बैठी
जुस्तजू की हवा कुछ यूँ चली
के सकूते दर्द के पन्ने फड़फडा उठे
इक वाकिफ सा सफा खुल के सामने आ गया
और आफताब सी इक शक़ल नज़र आने लगी
अनशुआ, मुंतशिर सा इक एहसास जो दफ़न था
भुला के सारे बंधन फिर से मुज्तरिब हो बैठा
उसे छूने भर की इक ललक
बस नज़दीक की इक झलक
ऎसी जुस्तुजुओं से सरोबर हो गयी
उस रूप की तपिश से माजी का वो सफा
सुर्ख हुआ जा रहा था , तपे जा रहा था
लम्स ए तवील की जुस्तजु के नशे में
बेख्याली में हाथ बढ़ा दिया
हाथ लगते ही इक आतिश फिशां सी फूटी
और देखते ही देखते पन्ने का सुर्ख रंग
 पुरे बदन पे उतर आया .....मानो ज्यूं
खोलते पारे की सेकडों नेजें चुभ गयी जैसे!
ज़र्ब से सोयी आँखें जाग गयी , तो देखा ....
"दहकते सूरज को पकड़ लिया मैंने
"मुआ" हाथ झुलस गया ......"
सुबह के छ: बज चुके थे शायद
हवा अब भी सर्द ही थी...चाँद भी ओझल था!
« Last Edit: July 31, 2014, 09:39:54 AM by Venus Sandal »
zoya****

Lau  hi lau sii ..... saik nhi si
Vekh lya main jugnu phd ke
:-Meesa.

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: ज़हन की करवट
« Reply #1 on: July 31, 2014, 10:45:04 AM »
मुंतशिर
मुज्तरिब
लम्स ए तवील
फिशां

in words ke meanings dijiye venus tabhi is nazam ke saath insaaf kar paaungi :)
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Venus Sandal

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 345
Re: ज़हन की करवट
« Reply #2 on: July 31, 2014, 11:04:13 AM »
मुंतशिर = scattered..bikhraa huyaa
मुज्तरिब = agitated..restless
लम्स ए तवील= lams (touch ..sparsh)...taweel (lmbaa.)
फिशां = aatish fishan...volcano..volcanic..jwala mukhi sa

in words ke meanings dijiye venus tabhi is nazam ke saath insaaf kar paaungi :)
[/quote]
« Last Edit: July 31, 2014, 11:09:19 AM by Venus Sandal »
zoya****

Lau  hi lau sii ..... saik nhi si
Vekh lya main jugnu phd ke
:-Meesa.

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: ज़हन की करवट
« Reply #3 on: July 31, 2014, 04:04:59 PM »
सुबहा के यही कोई तीन बजे होंगे शायद
हवा भी सर्द थी , ......चाँद भी ओझल था !
जेहन की करवट से माजी की किताब खुल बैठी
जुस्तजू की हवा कुछ यूँ चली
के सकूते दर्द के पन्ने फड़फडा उठे
इक वाकिफ सा सफा खुल के सामने आ गया
और आफताब सी इक शक़ल नज़र आने लगी
अनशुआ, मुंतशिर सा इक एहसास जो दफ़न था
भुला के सारे बंधन फिर से मुज्तरिब हो बैठा
उसे छूने भर की इक ललक
बस नज़दीक की इक झलक
ऎसी जुस्तुजुओं से सरोबर हो गयी
उस रूप की तपिश से माजी का वो सफा
सुर्ख हुआ जा रहा था , तपे जा रहा था
लम्स ए तवील की जुस्तजु के नशे में
बेख्याली में हाथ बढ़ा दिया
हाथ लगते ही इक आतिश फिशां सी फूटी
और देखते ही देखते पन्ने का सुर्ख रंग
 पुरे बदन पे उतर आया .....मानो ज्यूं
खोलते पारे की सेकडों नेजें चुभ गयी जैसे!
ज़र्ब से सोयी आँखें जाग गयी , तो देखा ....
"दहकते सूरज को पकड़ लिया मैंने
"मुआ" हाथ झुलस गया ......"
सुबह के छ: बज चुके थे शायद
हवा अब भी सर्द ही थी...चाँद भी ओझल था!
bahut khoob ek ek lafaz dil meiN utarta chala gaya  ,,,,jaise sab kuch mere saath ghaTit hua ho ,,,ek dam rooh ke kareeb raha her shabad ,,,meanings aane ke baad or enjoy kar paai ise padna ,,,,aati raho ,,,aisi rachnaayeiN karna behad mushkil haiN
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Sagar

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 326
  • Gender: Male
  • Be melting snow~ Rumi
Re: ज़हन की करवट
« Reply #4 on: July 31, 2014, 04:28:43 PM »
bahot achchha likha hai... aur likhte rahiye
मोमिन न मैं फ़िराक न ग़ालिब न मीर हूँ
इक आग का गोला हूँ मैं अर्जुन का तीर हूँ

Venus Sandal

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 345
Re: ज़हन की करवट
« Reply #5 on: July 31, 2014, 04:29:54 PM »
Rchnaa ka ptaa nhi di..pr haan ye likhna behad mushkil he..hmmmmm

Thanx di.....itne pyaare lafz kehne ke liye
Jiske lafz mujhe skoon dete hain..unhe ik baat kehti hun

Khush rahiye..tandurust rahiye

:)
zoya****

Lau  hi lau sii ..... saik nhi si
Vekh lya main jugnu phd ke
:-Meesa.

Venus Sandal

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 345
Re: ज़हन की करवट
« Reply #6 on: July 31, 2014, 04:30:33 PM »
bahot achchha likha hai... aur likhte rahiye

Dhanywaad sagr ji
zoya****

Lau  hi lau sii ..... saik nhi si
Vekh lya main jugnu phd ke
:-Meesa.

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: ज़हन की करवट
« Reply #7 on: July 31, 2014, 04:36:34 PM »
Rchnaa ka ptaa nhi di..pr haan ye likhna behad mushkil he..hmmmmm

Thanx di.....itne pyaare lafz kehne ke liye
Jiske lafz mujhe skoon dete hain..unhe ik baat kehti hun

Khush rahiye..tandurust rahiye

:)
0r mujhe in duaaoN ki bahut jaroorat hai :)
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Venus Sandal

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 345
Re: ज़हन की करवट
« Reply #8 on: August 04, 2014, 09:24:15 AM »
Mujhme sirf duyaon ka hi huner he
Isliye mujhme baki huner kam hain

:)
zoya****

Lau  hi lau sii ..... saik nhi si
Vekh lya main jugnu phd ke
:-Meesa.

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: ज़हन की करवट
« Reply #9 on: August 04, 2014, 10:12:23 AM »
Mujhme sirf duyaon ka hi huner he
Isliye mujhme baki huner kam hain

:)
  kya kahuN   :)  :)

















Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Venus Sandal

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 345
Re: ज़हन की करवट
« Reply #10 on: August 04, 2014, 11:11:30 AM »
:)  :)
zoya****

Lau  hi lau sii ..... saik nhi si
Vekh lya main jugnu phd ke
:-Meesa.

Shafaq

  • Full Member
  • ***
  • Posts: 113
Re: ज़हन की करवट
« Reply #11 on: November 06, 2014, 01:53:34 AM »
Sundar

Sahil

  • Jr. Member
  • **
  • Posts: 84
Re: ज़हन की करवट
« Reply #12 on: December 18, 2014, 06:20:32 PM »
behad umda