Author Topic: माई मुई नींद ना आवे  (Read 64 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Sagar

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 326
  • Gender: Male
  • Be melting snow~ Rumi
माई मुई नींद ना आवे
« on: July 29, 2014, 06:56:51 PM »
माई मुई नींद ना आवे 
रात जगावे
नींद ना आवे
आँगन मा खटिया तर लेटो
एक ही बात सतावे
माई मुई नींद ना आवे

नीम के पेड़न पै बैठी
भुतनी आँख दिखावे
मैं तारन में देखूँ
तुम्हरा रूप कभहूँ ना बन पावे
माई नींद ना आवे

पट पट टूटत है
डालन से फूल चमेलीइन के
सर सर पातन से खेलत है
पूर्वा खेल आँख मिचोलिन के
जागत जागत बीते रैना
सिसकी भर भर के
चंदा मामा सुने सभी दुःख
काहें समझ ना पावे
माई मुई नींद ना आवे

चूल्हन पर कालिख लागे
गोबरन पाटे ना
 हथुई मोसे ना बन पावे
खाना आंटे ना
भईया जाए खेत खटे दिन रात बैलन संग 
मैं आँगन लेपूँ सोचूँ
भाग कईसन बा
चुप चुप बीते दिन ताकत रात मिले फिर चैन
रात बिचारी आवे जावे
हाय! कबहूँ नींद ना आवे
माई तुम्हरी याद जगावे
खूब सतावे
माई मुई नींद ना आवे 
« Last Edit: July 29, 2014, 07:00:53 PM by Sagar »
मोमिन न मैं फ़िराक न ग़ालिब न मीर हूँ
इक आग का गोला हूँ मैं अर्जुन का तीर हूँ

Venus Sandal

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 345
Re: माई मुई नींद ना आवे
« Reply #1 on: July 30, 2014, 05:10:49 AM »
Neem ke pedan pe bethi
Bhutni aankh dikhawe

Waaaaaah
Bhasha shaili ki lazzat khoob he
Nice


Itzzzz so amazing..to read dis one

zoya****

Lau  hi lau sii ..... saik nhi si
Vekh lya main jugnu phd ke
:-Meesa.

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: माई मुई नींद ना आवे
« Reply #2 on: July 30, 2014, 03:24:01 PM »
bahut achhi lagi aapki ye rachna simple sidhi ganw ki mitti se nikli ho jaise,,,,,bhasha meiN thodi dikkat hui ,,,par do teen baar padne se samajh aati chali gai ,,,,,,khush rahiye,,,, aate rahiye,,,,isi tarah har thread pe aaiye
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale