Author Topic: पेशानी पर लिखी आयतों को समझने लगे हैं,  (Read 108 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Sajjan Singh

  • Newbie
  • *
  • Posts: 10
पेशानी पर लिखी आयतों को समझने लगे हैं,
इसीलए ज़हन के छालों को सहलाने लगे हैं
हाथों की लकीरें कुरेद कर खिड़की पर टांग दी हैं,
शायद कोई हवा का झोंका इनसे तुम्हारा अक्स बना दे।

Venus Sandal

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 345
Aaah....hath ki lekeeren kured ke khidki pe taang di he

Uff....ye ek line khud me hi ik nazam he

zoya****

Lau  hi lau sii ..... saik nhi si
Vekh lya main jugnu phd ke
:-Meesa.

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
पेशानी पर लिखी आयतों को समझने लगे हैं,
इसीलए ज़हन के छालों को सहलाने लगे हैं
हाथों की लकीरें कुरेद कर खिड़की पर टांग दी हैं,
शायद कोई हवा का झोंका इनसे तुम्हारा अक्स बना दे।
bahut gahre ehsaas ,,,,,,,,kuchh jyada likha kijiye ,,,,,,,,,ta jo poori nazam ka lutaf uTha sakeiN ...........aate rahiye
diaaeiN
« Last Edit: July 30, 2014, 11:00:12 AM by Rashmi »
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Sajjan Singh

  • Newbie
  • *
  • Posts: 10
Shukriya Venus Sandal ji aur Rashmi Ji.

Rashmi ji ye Nazm ka ek chhota sa hissa hai......Baaki bhi main jald hi share karoonga.

Sagar

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 326
  • Gender: Male
  • Be melting snow~ Rumi
mujhe samajh me nahi aaya,... ho sakta hai kaafi achchhi poetry ho ye... par kyuN samajh nahi paa raha huN main ye meri samajh se bhi baahar hai... :))
मोमिन न मैं फ़िराक न ग़ालिब न मीर हूँ
इक आग का गोला हूँ मैं अर्जुन का तीर हूँ