Author Topic: कुछ खट्टी सी हो गयी हैं शामें  (Read 86 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Sajjan Singh

  • Newbie
  • *
  • Posts: 10
कुछ खट्टी सी हो गयी हैं शामें,
कुछ अर्से पहले पकाई थीं,भुस गईं है शायद,
फफूंद की चादर को ज़रा खिसका कर देखा,
रंग भी थोडा सा बदला नज़र आया है,
चबूतरों पर पैर लटकाए बैठा रहती थी कभी,
सायकिलों के पैडलों पर खट खट करती थी कभी
यूँ तो कुछ ख़ास नहीं बदला है,
बस आँगन में लगे शाम के पेड़ को कोई पानी नहीं देता है अब।

Sagar

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 326
  • Gender: Male
  • Be melting snow~ Rumi
badhiyaa hai Sajjan ji.. kehte rahiye yunhi..
मोमिन न मैं फ़िराक न ग़ालिब न मीर हूँ
इक आग का गोला हूँ मैं अर्जुन का तीर हूँ

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Hmmm...sahi hai Sajjan ji kahte rahiye
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Venus Sandal

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 345
Cycleon ke pedlon pe kht kht krti rehti thi kbhiii


Very nice line

Keep goin
zoya****

Lau  hi lau sii ..... saik nhi si
Vekh lya main jugnu phd ke
:-Meesa.