Author Topic: आज फिर ज़िन्दगी को बहुत क़रीब से देखा,  (Read 70 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Sajjan Singh

  • Newbie
  • *
  • Posts: 10
आज फिर ज़िन्दगी को बहुत क़रीब से देखा,
आज फिर शिफ़ा को हलाहल बनते देखा,
रात भर माज़ी मेरा हमबिस्तर रहा,
आँख खुली तो तकिये पर कुछ गीला कुछ सूखा एक चेहरा देखा,
उम्र बहुत ही कम थी मेरे ख्वाबों की दीवानगी की,
मयकदे में आज फिर किसी अजनबी को लोगों ने लड़खड़ाते देखा।
है ग़र इख़्तियार में तेरे ऐ खुदा,
तो कुछ पल को चाँद को धरती का एहसास कराके दिखा।

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
welcome sajjan ji aapki is nazam ka swagat hai ,,,,,ehsaas or khyaal achchw haiN ,,,regular aate rahiye khush rahiye
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Sajjan Singh

  • Newbie
  • *
  • Posts: 10
Shukriya, Ji Bilkul Rashmi Ji.