Author Topic: आज़ाद ख़याल  (Read 41 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Sagar

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 326
  • Gender: Male
  • Be melting snow~ Rumi
आज़ाद ख़याल
« on: July 07, 2014, 02:14:40 AM »

खिड़की पर आ कर टिकी नीम की एक सुर्ख़ शाख़
कबसे लचक रही है अपनी पत्तियों में अलसाये हुए चाँद को लेकर
पत्तियां सुर्ख़, शाख़े  सुर्ख़, सुर्ख़ हर वो झोंका जो मेरे कमरे में आता है
और गुलदाम में रखे सफ़ेद फूलों को सुर्ख़ कर जाता है
सब बदलता रहता है
कुछ एक सा कभी नहीं
मोमिन न मैं फ़िराक न ग़ालिब न मीर हूँ
इक आग का गोला हूँ मैं अर्जुन का तीर हूँ

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: आज़ाद ख़याल
« Reply #1 on: July 07, 2014, 03:36:10 AM »
Kuchh ek sa rahe to waqt tham jaaye....yahi to ho nahi sakta....khush raho.....likhte raho
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

Aarti

  • Administrator
  • *****
  • Posts: 80
  • Gender: Female
Re: आज़ाद ख़याल
« Reply #2 on: July 07, 2014, 04:47:16 AM »
Parivartan hi sansar ka niyam hai ji
Badalne do jo badal raha hai