Author Topic: कभी जुगनू, कभी चंदा, तेरा चेहरा है क्या !  (Read 140 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Tarkash

  • Hindvi
  • *
  • Posts: 75
कभी जुगनू, कभी चंदा, तेरा चेहरा है क्या !
जो तुझसे ख़ूबसूरत हो, कहीं देखा है क्या !


कभी शबनम तू होता है, कभी तू आग सा,
तुझे मालूम भी है क्या, तुझे होता है क्या !


रक़ीबों से भरी महफ़िल में अंधेरा किया,
जलाने के लिए मुझको बुला रक्खा है क्या !


ज़ुबाँ कुछ और कहती है नज़र कुछ और तेरी,
जो तू बोले नहीं आना, तो आ जाना है क्या !


सफ़र है ये, सफ़र ही है, सफ़र ही तो है ये,
तेरा जीना है क्या 'तरकश' मेरा मरना है क्या !
30/06/2014 तरकश प्रदीप

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
कभी जुगनू, कभी चंदा, तेरा चेहरा है क्या !
जो तुझसे ख़ूबसूरत हो, कहीं देखा है क्या !


कभी शबनम तू होता है, कभी तू आग सा,
तुझे मालूम भी है क्या, तुझे होता है क्या !


रक़ीबों से भरी महफ़िल में अंधेरा किया,
जलाने के लिए मुझको बुला रक्खा है क्या !


ज़ुबाँ कुछ और कहती है नज़र कुछ और तेरी,
जो तू बोले नहीं आना, तो आ जाना है क्या !


सफ़र है ये, सफ़र ही है, सफ़र ही तो है ये,
तेरा जीना है क्या 'तरकश' मेरा मरना है क्या !
30/06/2014 तरकश प्रदीप
waaah Pradeep ji bahut khoob likhte ho ...indicated sher behad pasand aaye aate rahiye ,,,paDte or paDaate rahiye
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

madhur

  • Full Member
  • ***
  • Posts: 140
behtreen gazal hats off

Tarkash

  • Hindvi
  • *
  • Posts: 75
behtreen gazal hats off
शुक्रिया जनाब...

Sagar

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 326
  • Gender: Male
  • Be melting snow~ Rumi
waah .. khoobsoorat ghazal..
मोमिन न मैं फ़िराक न ग़ालिब न मीर हूँ
इक आग का गोला हूँ मैं अर्जुन का तीर हूँ

Aanchal

  • Guest





कभी जुगनू, कभी चंदा, तेरा चेहरा है क्या !
जो तुझसे ख़ूबसूरत हो, कहीं देखा है क्या !


कभी शबनम तू होता है, कभी तू आग सा,
तुझे मालूम भी है क्या, तुझे होता है क्या !


रक़ीबों से भरी महफ़िल में अंधेरा किया,
जलाने के लिए मुझको बुला रक्खा है क्या !


ज़ुबाँ कुछ और कहती है नज़र कुछ और तेरी,
जो तू बोले नहीं आना, तो आ जाना है क्या !


सफ़र है ये, सफ़र ही है, सफ़र ही तो है ये,
तेरा जीना है क्या 'तरकश' मेरा मरना है क्या !
30/06/2014 तरकश प्रदीप

Waaaahh.  Khuub
« Last Edit: November 04, 2014, 05:21:22 PM by Aarti »

Fikr

  • Newbie
  • *
  • Posts: 44
kya kahne janaab ... kya hi kahne

Tarkash

  • Hindvi
  • *
  • Posts: 75
शुक्रिया आँचल जी, फ़िक्र साब

Shafaq

  • Full Member
  • ***
  • Posts: 113
वाह्ह्ह्ह्ह्ह

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
mujhe shukriya kaun kahega  >:( >:(   ::)
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale