Author Topic: तुमने कभी सांवली सलोनी सजीली रात को देखा है ?  (Read 104 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Mukesh Srivastava

  • Newbie
  • *
  • Posts: 12
सुमी -- तुमने कभी सांवली सलोनी सजीली रात को देखा है ?
जब आसमा में न तारे होते है न चन्दा होता है - सब के सब
जुदा हो गए होते हैं ये रूठ चुके होते है - तब भी ये सांवरी
कजरारी रात अपने में खोई खोई - सिमटी सकुचाई सी अपना
आँचल पसारे सारी कायनात को अपने में समेटे रहती है -
और --- ---- उसे ये एहसास रहता है की कभी तो सहर होगी और वो दिन के
मजबूत बाजुओं में अपना सर रख के सो जायेगी - शाम होने तक के लिए
और फिर -------
रात इसी इंतज़ार में गलने लगती है धीरे धीरे हौले हौले - कभी कभी वो भी
संवराई रात उदास होने लगती है की शय सहर न भी हो और वो यूँ ही दम तोड़
दे इन स्याह ऋतुओं में पर ऐसा होता नहीं ऐसा होता नहीं --
सहर होती है - रात मुस्कुराती है -
और फिर फिर दिन के बाजुओं में आ के मुस्कुरा देती है -
तब ये फूल ये पत्ते ये भंवरे - या हवाएं सब मस्त मगन नाचते हैं - गुनगुनाते है -
और इसी तरह मेरे सुमी एक दिन तुम भी सुबह की तरह खिलोगी हंसोगी मुस्कुराओगी
और उस दिन तुम हमें भूल जाओगी - भूल जाओगी - भूल जाओगी

मुकेश इलाहाबादी ---------

Venus Sandal

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 345
Raat isi intzaar me glne lgti he...dheerw dheere


Waaah
I wasss picturizing d words...beautiful
zoya****

Lau  hi lau sii ..... saik nhi si
Vekh lya main jugnu phd ke
:-Meesa.

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
सहर होती है - रात मुस्कुराती है -
और फिर फिर दिन के बाजुओं में आ के मुस्कुरा देती है -
तब ये फूल ये पत्ते ये भंवरे - या हवाएं सब मस्त मगन नाचते हैं - गुनगुनाते है -
bahut khoob Mukesh ji kalpana lok meiN chali gai maiN kya adbhut drishya hai...waah likhte rahiye ...duaaoN ke saath
« Last Edit: June 18, 2014, 10:07:44 AM by Rashmi »
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale