Author Topic: Guftagu..... RAJNEESH SACHAN ji se  (Read 3375 times)

0 Members and 1 Guest are viewing this topic.

Rajneesh

  • Full Member
  • ***
  • Posts: 107
Re: Guftagu..... RAJNEESH SACHAN ji se
« Reply #120 on: September 30, 2013, 07:30:11 AM »


रश्मि जी मैं कोशिश करूंगा कि इस सबसे कठिन पेपर में पास हो सकूँ ....
koi ni abhi marks deti hooN
1. aap ne likha tha ke aap kabhi apni poetry se santusht nahi hote apni koi aisi rachana share kijiye jis ko aap khud baar baar paDte hoN ya aap ko us ko likh ke aapaar khushi ka anubhav hua ho

संतुष्टि तो नहीं हुई हाँ मगर कुछ ग़ज़ल और कवितायें ऐसी हैं जिन्हें देखकर थोडा यकीन आता है कि शायद कभी अच्छा लिखने लगूंगा ..... एक ग़ज़ल याद आ रही है , शेयर कर रहा हूँ...
.
इक वक़्त का सौदागर,यादें मेरी चुराकर,मशहूर हो चला है.
जो अक्स दिखाता था,आईना बनाता था, मगरूर हो चला है..

सबको वहम नया है,ये क़ायनात क्या है,पर्दे मे है खुदा भी,
इंसान को सलीका,वहशत की तीरगी का,मंज़ूर हो चला है…

अब खुद को कौन देखे,जब ज़ख़्म दूसरे के,छूने मे लुत्फ़ आए,
यारों को आजमाना,उन्हे बेवफा बताना, दस्तूर हो चला है,

वो चाँद आसमानी,वो लज़्ज़त-ए-बयानी,वो गेसुओं के साए,
हर दस्तख़त तुम्हारा,हर इक सिफ़त तुम्हारा,नासूर हो चला है…

हम दूर भी रहें तो,मज़बूर भी रहें तो,ये प्यार कम न होगा,
हर फलसफा तुम्हारा,दौरे वफ़ा हमारा,बेनूर हो चला है…

कुछ और नही कहना,झूठा हरेक गहना,पत्थर की मूरतें हैं,
हर दश्त जुग्नुओ से,गुल अपनी खुश्बुओं से,कुछ दूर हो चला है..

हों वस्ल के परिंदे,या हिज्र के दरिंदे,शाखें खरोंछते हैं,
दिल का शजर शिकन से,यादों के नशेमन से, भरपूर हो चला है..

bahut khobb ...bahut achha laga ise paR ke thankyou for sharing
2.aap ne ek answer meiN ye likha tha ke aap har insaan se kuchh na kuchh inspire hote ho  to ab ye bataaiye ke mujh se aapko kya inspiration mili :p

ऐसे सवालों के जवाब नहीं होते रश्मि जी ...
wo swaal hi kya jis ka jwaab nahi .aap kahiye ke i am skipping this que :) are aapko adhikaar mila hua hai ...u can.
.kuchh aise que jo pichhali interview meiN bhi poochhe gaye the .....abhi aapke views bhi unpe jan lena chahungi


3.aaj ke samaaj meiN aurat ke sathaan  ko kaise leti ho ?kya is badlte yug mein aurat poori tarah se swatantar hai?
मैं ये मान रहा हूँ कि लेते कि जगह  'लेती', गलती से लिखा गया है ... ;) :P
रश्मि जी एक औरत होने के नाते शायद आपके पास बेहतर उत्तर होगा इसका ..फिर भी मेरी सोच के हिसाब से पहली बात ये है कि स्वतंत्रता कभी भी आधी या पूरी नहीं होती , स्वतंत्रता एक सापेक्ष अवधारणा है ... हाँ ये मैं बिलकुल मानता हूँ कि औरत के पास कोई स्वतंत्रता नहीं है ..और ये इस बदलते युग की  बात नहीं है ...ये हर युग की  बात है ....कोई एक ऐसा युग बता दीजिये जब औरत स्वतंत्र रही हो ....और बड़ा दुःख होता है आज भी ये देखकर कि आज भी असली स्वतंत्रता की बात नहीं होती .. hmmm achha jwaab hai
4. sahi mayane meiN aurat ka ghar kaun sa hota hai ? uska mayaka ya sasuraal ?
इस सवाल का जवाब नहीं है मेरे पास ..क्यूंकि सवाल में दो उत्तर दिए हैं और ये बंदिश जैसी भी है कि इन्ही में कोई एक सही है .... ये तो ऐसे हुआ जैसे हमसे बचपन में मज़ाक में पूछते थे दोस्त लोग कि '' क्या तुमने मंदिर से चप्पल चुरानी बंद कर दी ?? "
:)nahi aap shayad que ni samajh paaye ...ya maiN properly put ni kar paai,,,ab detail meiN bataati hooN,,,,laDki jab thoda sa baRi hoti hai use aksar kaha jaane lagta hai ... kuchh aqal seekh le tujhe paraaye ghar jaana hai ...shadi ke waqt wahi maaN kahti hai ab jis ghar meiN jaa rahi hai wahi tera apna hai humare liye to tu paraai amaanat thi fir shadi ke baad koi bhi galti ho jaaye ya thodi nok-jhonk bhi laDki ko vaapis bhejane ki dhamki di jaati hai apne ghar se yahi seekh ke aai hai aadi aise kai jhumle sun.ne ko mil jaate haiN ...ab aise meiN bataaiye ke kaunsa ghar uska hua aaj ki yuva peeRi hain aap or maine aaj bhi bahut jagah aisa hote dekha suna hai ..is situation meiN kya kahenge aap
5 sanyukat pariwaar ki marits or demarits ke baare kya kahna hai aapka ?
संयुक्त परिवार में कोई बुराई नहीं होती ...और जो बुराइयां गिनाई जाती हैं वो बुराइयां संयुक्त परिवार की नहीं होती... वो किसी और वजह से होती हैं .... मैं हमेशा संयुक्त परिवार के पक्ष में हूँ .
good
6.kya aurat or marad baraabari ka darza rakhte haiN ?
बराबरी ???? कैसी बराबरी ??
देखिये समस्या बहुत बड़ी है कि औरत को उसका हक नहीं मिल पाया ...पुरुषप्रधान समाज कि वजह से ..मगर ये जो जुमला उछाला जाता है औरत और मर्द कि बराबरी का ये तो और भी बुरी स्थिति है ...सुनने में बहुत अच्छा लगता है कुछ स्त्रीवादियों को खूब चिल्लाते सुनता हूँ मैं ..मगर बराबरी के मापदंड क्या हैं ?
जब आप ये कहते हैं कि स्त्री और पुरुष कि बराबरी ...तो इसमें कितनी बड़ी साज़िश छिपी होती है पता है ?? ये कहते ही ये तय हो जाता है कि पहले ही आप ने ये मान लिया है कि दो समूह हैं ..स्त्री समूह और पुरुष समूह .... फिर आप कहते हैं बराबरी ... तो ये शब्द बराबरी और भी ज्यादा साज़िश भरा है ...दीखता है 'बराबरी' मगर इसका मतलब होता है कम्पटीशन .... और जब दो समूहों में आप कम्पटीशन करवा रहे हैं तो सुख शांति सहयोग प्रेम और स्वतंत्रता कि मौत तो पहले ही हो गयी .
hmmmm
7.aap ke lifepartner ke baare kya khyaal hain? kaisi honi chahiye aapke sapnon ka rajkumari ?
मेरी लाइफ में पार्टनरशिप कि जगह नहीं है ...मैं इकलौता और सम्पूर्ण मालिक हूँ अपनी जिंदगी का ... :)
hmmmm
8.shahansheelata aurat ka gun hai ya avgun ?
सहनशीलता किसी के भी पास हो , औरत या मर्द या कोई भी ...हमेशा गुण होता है ...हाँ मगर सहनशीलता क्या है वो ज़रूर समझना होगा ...कई बार दब्बूपन , दर , भय आदि को हम सहनशीलता का नाम दे देते हैं ......हमारा मन बड़ा चतुर है इससे हमेशा सावधान रहना चाहिए ..ये हमें खुद कई बार बरगलाता है .hammmm
aapne badi chaturaai se answer dene ki koshish ki par is se pahle ki aap ka result ghoshit kiya jaaye aap ko uprokat kuchh muddoN ko dowara suljhaana hoga  8) 8) 8)

nahi aap shayad que ni samajh paaye ...ya maiN properly put ni kar paai,,,ab detail meiN bataati hooN,,,,laDki jab thoda sa baRi hoti hai use aksar kaha jaane lagta hai ... kuchh aqal seekh le tujhe paraaye ghar jaana hai ...shadi ke waqt wahi maaN kahti hai ab jis ghar meiN jaa rahi hai wahi tera apna hai humare liye to tu paraai amaanat thi fir shadi ke baad koi bhi galti ho jaaye ya thodi nok-jhonk bhi laDki ko vaapis bhejane ki dhamki di jaati hai apne ghar se yahi seekh ke aai hai aadi aise kai jhumle sun.ne ko mil jaate haiN ...ab aise meiN bataaiye ke kaunsa ghar uska hua aaj ki yuva peeRi hain aap or maine aaj bhi bahut jagah aisa hote dekha suna hai ..is situation meiN kya kahenge aap ..

रश्मि जी ... समस्या ये नहीं है कि घर कौन सा है औरत का .... समस्या ये है कि औरत की इस सामाजिक व्यवस्था में हैसियत क्या है उसका स्थान क्या है .... हमारी सामाजिक व्यवस्था इस क़दर बिगड़ गयी है कि औरत को एक तरह से इंसान मानने से इनकार करती है ..उसके साथ सरे व्यवहार ऐसे होते हैं जैसे वो कोई चीज है .... और रश्मि जी चीज़ों के घर नहीं होते ...मालिक होते हैं .(मैं जवाब देना नहीं चाह रहा था फिर लगा कि शायद देना ज़रूरी है , मुझे ये भी मालूम है कुछ लोग शायद सहमत न भी हों मगर आप बारीकी से देखिये हमारी सामाजिक व्यवस्था को आपको साफ़ नज़र आएगा )

Rajneesh

  • Full Member
  • ***
  • Posts: 107
Re: Guftagu..... RAJNEESH SACHAN ji se
« Reply #121 on: September 30, 2013, 07:46:01 AM »
3. Agar main ye kahoon ki mera Khuda har qadam mere sath chalta hai... I mean literally. To aap ise mera vishwas kahenge ya paagalpan??
आपके कहने का कोई मायने नहीं ...आप महसूस क्या करते हैं वो मायने रखता है .. इसका न तो विश्वास से कोई लेना देना है और न ही पागलपन

Rajneesh ji ,
Upar ki lines maine Mudita se quote ki hain...
Is question ko main doosre tarah present karta hun ::

Khuda har kadam mere saath chalta hai ...kya yeh  meri soch hai   ya ki mera veham hai  or ya mera vishvaas hai...
 Is baat ko aap kaise mehsoos kar sakte hain zara batayein..

Secondly shayri ya poetry (but for technical aspects ) likhi jaati hai   ya it is an automatic process where shayar is the medium
who wirtes  the thoughts which come to him naturally .. Mera ques hai  ki Bhavana apne aap bhavon mein behti  hai   ya
shayar bhavo  ko bhavnaon mein bandhta hai.

Lastly with due regards Shayar log thore eccentric hote hai ( sanki ) aur inme ek duje ko tolerate karne ki lshmta kam hoti hai..
Aisa maine kisi function mein personally mehsoos kiya , main galat bhi ho sakta hun..
Har Shayar apni soch ko bara dikhane ki koshish karta hai ,,,if yes  , aisa kyun.

Do lines apni likh raha hun , apka comment chahunga is  khayal per :

Main apni soch ka itna gulaam ho gaya hoon,
Kisi ki nahin sunta khud ka Bhagwaan ho gaya hoon.

Pls dont mind agar koi words  ache na lage hon..

Regds
Sanjay Sehgal
P.S  Mera interest sirf English Poetry tak tha , aur main shayri se pichle 11 months se hi jura hun

Khuda har kadam mere saath chalta hai ...kya yeh  meri soch hai   ya ki mera veham hai  or ya mera vishvaas hai...
 Is baat ko aap kaise mehsoos kar sakte hain zara batayein..
ये जो आपका(हम सब का ) 'मेरा' है न .. बस यही है जो खुदा को दूर रखता है और बस चिल्लाता भर है कि मेरा खुदा मेरे पास है  :)
खुदा पास या दूर नहीं होता खुदा बस होता है ...सर्वव्यापी .
या फिर नहीं होता ...कहीं भी नहीं ...पास और दूर तो बेकार कि बात है .
 
rajneesh is meiN koi do rai nahi ke  aap ne sabhi jwaab baRe hi suljhe hue tareeke se diye haiN .par yahaN maiN thodi si aap se asahmat hoon maiN mera in shabdoN ke maiN bhi bilkul khilaf hooN  par agar sahi mayano meiN insaan kisi ko apnaata hai to wo kab 'mera' ho jata hai pata hi nahi chalta to bhagwaan rabb khuda ya jis roop meiN bhi aap us sarv-viapi ko mante ho us ke saath to rishta hi yah hona chahiye    fully devotion wala ,,,baba bulleshah bhaaigurdaas in sab ne yahi to kiya ---meera ne kya kiya  dhanne ne patthar mein se pragat kiya ye sab tabhi sambhav ho paaya hoga "mera" wahaN bura hai jahaaN is meiN ahankaar samaa jaata hai muaaf kijiyega raha nahi gya ...maiN apni soch aap par thopna nahi chahti ,,,haaN is soch ko kuchh pal ke liye apna ke boliye ki kya aisa karna galat hai


रश्मि जी मैं आपकी बात ठीक से समझ नहीं पाया ....  पर एक बात कहना चाहता हूँ कि जब हम बात चेतना के सबसे ऊंचे स्तर की बात  करते हैं तब कई बार हमारी भाषा कमज़ोर पड़ जाती है उसे व्यक्त करने में ... जब मैं कहता हूँ कि 'मेरा' समस्या है तो ज़ाहिर है वो अहंकार ही है ... हमारे 'मेरा' और बाबा बुल्लेशाह या मीरा के 'मेरा' में कोई सम्बन्ध नहीं ..जिस दिन हमारा 'मेरा' बुलेशाह का 'मेरा' हो जाएगा उस दिन खुदा और हम दोनों एक हो जायेंगे 'मेरा' गिर जाएगा ..मगर फिर  भी जब किसी को समझाना होगा तो भाषा कि कमी की वजह से 'मेरा' 'मैं' शब्दों का आ जाना लाजिमी है .....एक कहानी सुनाऊं आपको ..
एक बार अरब से एक व्यापारी आया था हिन्दुस्तान उसने यहाँ आम खाए पहली बार ...उसे बड़े अच्छे लगे ...जाते वक़्त वो अपने साथ आम लेकर चला कि बादशाह को  तोहफा दूंगा ...मगर रास्ते भर में वो एक एक करके सारे खा गया ...बादशाह के पास पहुंचा तो उसने बताया कि उसने आम खाए हिन्दुस्तान में और ऐसा स्वाद आजतक नहीं पाया उसने ...
बादशाह ने कहा कि कैसा स्वाद था? उसने कहा कि मीठा ..तो बादशाह ने कहा चीनी जैसा ? उसना कहा न ... बादशाह ने कहा गुड जैसा ? उसने कहा न ...इस तरह बादशाह ने सब मीठी चीज़ों  के नाम बताये और उसने हर बार मना कर दिया ...पर ये भी कहा कि था मीठा ....
बादशाह ने झल्लाकर कहा कि अगर तुमने नहीं बताया तो तम्हारा सर कलम कर दिया जाएगा .... व्यापारी ने घबराकर कहा कि जहाँपनाह स्वाद एकदम वैसा तो नहीं बता सकता पर चूसने में जो आनंद आया था वो आपको थोडा थोडा दिला सकता हूँ ..पर मुझे डर है कि आप मुझे फिर भी मार दो गे .... बादशाह ने कहा कि अगर मुझे वाक़ई आनंद आया तो तुहे बख्श दूंगा ....
व्यापारी ने अपनी दाढ़ी में चाशनी लगाईं और बादशाह से कहा कि इसे चाटिये...ऐसा ही कुछ कुछ लगता है आम चूसने में ...
हा हा हा हा हा .......
तो ये है लिमिटेशन हमारी भाषा की ..जो कई बार ऐसी स्थिति पैदा कर देती है कि आप महसूस तो करते हो पर शब्द नहीं दे सकते ... और जब हम खुदा या चेतना के उस सबसे ऊंचे स्तर कि बात करते हैं तब तो हमें ख़ास ख़याल रखना होता है कि कहीं हम शब्दों में न फंस जाएँ .... वरना होता ये है कि कोई चाँद दिखा रहा है और हम उसकी ऊँगली ही देखते रह जाते हैं.
:)
« Last Edit: September 30, 2013, 07:49:03 AM by Rajneesh »

Rashmi

  • Global Moderator
  • ***
  • Posts: 1893
  • Gender: Female
  • Hum se khafa zamaana to Hum bhi jamaane se khafa
Re: Guftagu..... RAJNEESH SACHAN ji se
« Reply #122 on: September 30, 2013, 05:16:53 PM »
3. Agar main ye kahoon ki mera Khuda har qadam mere sath chalta hai... I mean literally. To aap ise mera vishwas kahenge ya paagalpan??
आपके कहने का कोई मायने नहीं ...आप महसूस क्या करते हैं वो मायने रखता है .. इसका न तो विश्वास से कोई लेना देना है और न ही पागलपन

Rajneesh ji ,
Upar ki lines maine Mudita se quote ki hain...
Is question ko main doosre tarah present karta hun ::

Khuda har kadam mere saath chalta hai ...kya yeh  meri soch hai   ya ki mera veham hai  or ya mera vishvaas hai...
 Is baat ko aap kaise mehsoos kar sakte hain zara batayein..

Secondly shayri ya poetry (but for technical aspects ) likhi jaati hai   ya it is an automatic process where shayar is the medium
who wirtes  the thoughts which come to him naturally .. Mera ques hai  ki Bhavana apne aap bhavon mein behti  hai   ya
shayar bhavo  ko bhavnaon mein bandhta hai.

Lastly with due regards Shayar log thore eccentric hote hai ( sanki ) aur inme ek duje ko tolerate karne ki lshmta kam hoti hai..
Aisa maine kisi function mein personally mehsoos kiya , main galat bhi ho sakta hun..
Har Shayar apni soch ko bara dikhane ki koshish karta hai ,,,if yes  , aisa kyun.

Do lines apni likh raha hun , apka comment chahunga is  khayal per :

Main apni soch ka itna gulaam ho gaya hoon,
Kisi ki nahin sunta khud ka Bhagwaan ho gaya hoon.

Pls dont mind agar koi words  ache na lage hon..

Regds
Sanjay Sehgal
P.S  Mera interest sirf English Poetry tak tha , aur main shayri se pichle 11 months se hi jura hun

Khuda har kadam mere saath chalta hai ...kya yeh  meri soch hai   ya ki mera veham hai  or ya mera vishvaas hai...
 Is baat ko aap kaise mehsoos kar sakte hain zara batayein..
ये जो आपका(हम सब का ) 'मेरा' है न .. बस यही है जो खुदा को दूर रखता है और बस चिल्लाता भर है कि मेरा खुदा मेरे पास है  :)
खुदा पास या दूर नहीं होता खुदा बस होता है ...सर्वव्यापी .
या फिर नहीं होता ...कहीं भी नहीं ...पास और दूर तो बेकार कि बात है .
 
rajneesh is meiN koi do rai nahi ke  aap ne sabhi jwaab baRe hi suljhe hue tareeke se diye haiN .par yahaN maiN thodi si aap se asahmat hoon maiN mera in shabdoN ke maiN bhi bilkul khilaf hooN  par agar sahi mayano meiN insaan kisi ko apnaata hai to wo kab 'mera' ho jata hai pata hi nahi chalta to bhagwaan rabb khuda ya jis roop meiN bhi aap us sarv-viapi ko mante ho us ke saath to rishta hi yah hona chahiye    fully devotion wala ,,,baba bulleshah bhaaigurdaas in sab ne yahi to kiya ---meera ne kya kiya  dhanne ne patthar mein se pragat kiya ye sab tabhi sambhav ho paaya hoga "mera" wahaN bura hai jahaaN is meiN ahankaar samaa jaata hai muaaf kijiyega raha nahi gya ...maiN apni soch aap par thopna nahi chahti ,,,haaN is soch ko kuchh pal ke liye apna ke boliye ki kya aisa karna galat hai


रश्मि जी मैं आपकी बात ठीक से समझ नहीं पाया ....  पर एक बात कहना चाहता हूँ कि जब हम बात चेतना के सबसे ऊंचे स्तर की बात  करते हैं तब कई बार हमारी भाषा कमज़ोर पड़ जाती है उसे व्यक्त करने में ... जब मैं कहता हूँ कि 'मेरा' समस्या है तो ज़ाहिर है वो अहंकार ही है ... हमारे 'मेरा' और बाबा बुल्लेशाह या मीरा के 'मेरा' में कोई सम्बन्ध नहीं ..जिस दिन हमारा 'मेरा' बुलेशाह का 'मेरा' हो जाएगा उस दिन खुदा और हम दोनों एक हो जायेंगे 'मेरा' गिर जाएगा ..मगर फिर  भी जब किसी को समझाना होगा तो भाषा कि कमी की वजह से 'मेरा' 'मैं' शब्दों का आ जाना लाजिमी है .....एक कहानी सुनाऊं आपको ..
एक बार अरब से एक व्यापारी आया था हिन्दुस्तान उसने यहाँ आम खाए पहली बार ...उसे बड़े अच्छे लगे ...जाते वक़्त वो अपने साथ आम लेकर चला कि बादशाह को  तोहफा दूंगा ...मगर रास्ते भर में वो एक एक करके सारे खा गया ...बादशाह के पास पहुंचा तो उसने बताया कि उसने आम खाए हिन्दुस्तान में और ऐसा स्वाद आजतक नहीं पाया उसने ...
बादशाह ने कहा कि कैसा स्वाद था? उसने कहा कि मीठा ..तो बादशाह ने कहा चीनी जैसा ? उसना कहा न ... बादशाह ने कहा गुड जैसा ? उसने कहा न ...इस तरह बादशाह ने सब मीठी चीज़ों  के नाम बताये और उसने हर बार मना कर दिया ...पर ये भी कहा कि था मीठा ....
बादशाह ने झल्लाकर कहा कि अगर तुमने नहीं बताया तो तम्हारा सर कलम कर दिया जाएगा .... व्यापारी ने घबराकर कहा कि जहाँपनाह स्वाद एकदम वैसा तो नहीं बता सकता पर चूसने में जो आनंद आया था वो आपको थोडा थोडा दिला सकता हूँ ..पर मुझे डर है कि आप मुझे फिर भी मार दो गे .... बादशाह ने कहा कि अगर मुझे वाक़ई आनंद आया तो तुहे बख्श दूंगा ....
व्यापारी ने अपनी दाढ़ी में चाशनी लगाईं और बादशाह से कहा कि इसे चाटिये...ऐसा ही कुछ कुछ लगता है आम चूसने में ...
हा हा हा हा हा .......
तो ये है लिमिटेशन हमारी भाषा की ..जो कई बार ऐसी स्थिति पैदा कर देती है कि आप महसूस तो करते हो पर शब्द नहीं दे सकते ... और जब हम खुदा या चेतना के उस सबसे ऊंचे स्तर कि बात करते हैं तब तो हमें ख़ास ख़याल रखना होता है कि कहीं हम शब्दों में न फंस जाएँ .... वरना होता ये है कि कोई चाँद दिखा रहा है और हम उसकी ऊँगली ही देखते रह जाते हैं.
:)
aap ki baatoN se 101 pratishat sahmat hooN par mujhe abhi bhi aisa lagta hai ke sanjay ji ka mera apne naam sanjay ko reprsent karte hue tha ,,,,chalo chhoRiye is mudde ko yahiN khatam karte haiN kyonki jo aap ne kahna chaaha wo bhi galat nahi tha ....ab jaate jaate chand que or pooch leti hooN pahla to ye ki aksar aisa kyoN hota hai ke kahne waala kuchh or kah raha hota hai or sunane wala kuchh or recieve kar raha  hota hai jaisa ke abhi hum dono ne sanjay ji ke kahe ko apne apne nazariye se dekha  or ho sakta hai ke jo sanjay ji ne kaha ho wo aap ne sahi samjha ho ...ya maine...ya dono meiN se kisi ne bhi naa ,,,to aise meiN kai baar matbhed ho jaata hai to apni baat sahi se samjhaane ka guru-mantar bhi bata diziye kyonki aap ki baateiN  mere khyaal se sab ko pooi tarah samajh aati rahi haiN .

2. viaktitav meiN itni sanjeedgi itna gahra pan laana kahaaN se seekha aapne ?

aaj ye aapke saath guftgoo ka aakhiri din tha to socha kyoN na bahti ganga meiN haath dho liye jaayeiN :)

baharhaal in prashano ke jawaab aap aaraam se de sakte haiN .guftgoo ka ye safar sach mein bahut sanjeeda raha or bahut kuchh seekhane ko mila aap se or har baar  ki tarah apne aap ko bahut niminsatar par khaRe paaya abhi aap logoN se bahut kuchh seekhna baaki hai ..isi ke saath hi dua karti hoon aap ke ujwal bhawishay ki or ummid karoongi ki aap niymat roop se apni hindvi ko apne gyaan ke parkash meiN roshan karte raheiN       khushaamdeed  ji gud bye and take cr
Rashmi Sharma

gooDe akkhar ,fatti sukki
adiyo meri gaachi mukki
sukke hanjhu akkhaN waale
haaDa! akkhar mooloN kaale

hamdam

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 271
  • Gender: Male
Re: Guftagu..... RAJNEESH SACHAN ji se
« Reply #123 on: September 30, 2013, 05:31:34 PM »
Rashmi Ji ,
your analysis showed a true understanding of what I said .. Word Mera was used to represent Sanjay's and where comes the ego for refereing someone as Mera , mera bacha , mera khana ..Mera Khuda , bhai main pyar se apnapan dikha rahun khuda se, na ki arrogance or ahnakar ????

But Rajneesh Dear you people of young generation are a little less receptive of other's point of view and jump to your conclusions , because of preset mental block ,,, Anyway  I have read your all interview and found you to be good human being and quite intelligent
too,,,but my request to you as senior ( age wise) that please be a little more receptive , this will help you in growing a lot in life.

May God bless you  all..
.
regds
sanjay sehgal
« Last Edit: September 30, 2013, 05:34:13 PM by hamdam »

Rajneesh

  • Full Member
  • ***
  • Posts: 107
Re: Guftagu..... RAJNEESH SACHAN ji se
« Reply #124 on: October 01, 2013, 06:21:05 AM »
3. Agar main ye kahoon ki mera Khuda har qadam mere sath chalta hai... I mean literally. To aap ise mera vishwas kahenge ya paagalpan??
आपके कहने का कोई मायने नहीं ...आप महसूस क्या करते हैं वो मायने रखता है .. इसका न तो विश्वास से कोई लेना देना है और न ही पागलपन

Rajneesh ji ,
Upar ki lines maine Mudita se quote ki hain...
Is question ko main doosre tarah present karta hun ::

Khuda har kadam mere saath chalta hai ...kya yeh  meri soch hai   ya ki mera veham hai  or ya mera vishvaas hai...
 Is baat ko aap kaise mehsoos kar sakte hain zara batayein..

Secondly shayri ya poetry (but for technical aspects ) likhi jaati hai   ya it is an automatic process where shayar is the medium
who wirtes  the thoughts which come to him naturally .. Mera ques hai  ki Bhavana apne aap bhavon mein behti  hai   ya
shayar bhavo  ko bhavnaon mein bandhta hai.

Lastly with due regards Shayar log thore eccentric hote hai ( sanki ) aur inme ek duje ko tolerate karne ki lshmta kam hoti hai..
Aisa maine kisi function mein personally mehsoos kiya , main galat bhi ho sakta hun..
Har Shayar apni soch ko bara dikhane ki koshish karta hai ,,,if yes  , aisa kyun.

Do lines apni likh raha hun , apka comment chahunga is  khayal per :

Main apni soch ka itna gulaam ho gaya hoon,
Kisi ki nahin sunta khud ka Bhagwaan ho gaya hoon.

Pls dont mind agar koi words  ache na lage hon..

Regds
Sanjay Sehgal
P.S  Mera interest sirf English Poetry tak tha , aur main shayri se pichle 11 months se hi jura hun

Khuda har kadam mere saath chalta hai ...kya yeh  meri soch hai   ya ki mera veham hai  or ya mera vishvaas hai...
 Is baat ko aap kaise mehsoos kar sakte hain zara batayein..
ये जो आपका(हम सब का ) 'मेरा' है न .. बस यही है जो खुदा को दूर रखता है और बस चिल्लाता भर है कि मेरा खुदा मेरे पास है  :)
खुदा पास या दूर नहीं होता खुदा बस होता है ...सर्वव्यापी .
या फिर नहीं होता ...कहीं भी नहीं ...पास और दूर तो बेकार कि बात है .
 
rajneesh is meiN koi do rai nahi ke  aap ne sabhi jwaab baRe hi suljhe hue tareeke se diye haiN .par yahaN maiN thodi si aap se asahmat hoon maiN mera in shabdoN ke maiN bhi bilkul khilaf hooN  par agar sahi mayano meiN insaan kisi ko apnaata hai to wo kab 'mera' ho jata hai pata hi nahi chalta to bhagwaan rabb khuda ya jis roop meiN bhi aap us sarv-viapi ko mante ho us ke saath to rishta hi yah hona chahiye    fully devotion wala ,,,baba bulleshah bhaaigurdaas in sab ne yahi to kiya ---meera ne kya kiya  dhanne ne patthar mein se pragat kiya ye sab tabhi sambhav ho paaya hoga "mera" wahaN bura hai jahaaN is meiN ahankaar samaa jaata hai muaaf kijiyega raha nahi gya ...maiN apni soch aap par thopna nahi chahti ,,,haaN is soch ko kuchh pal ke liye apna ke boliye ki kya aisa karna galat hai


रश्मि जी मैं आपकी बात ठीक से समझ नहीं पाया ....  पर एक बात कहना चाहता हूँ कि जब हम बात चेतना के सबसे ऊंचे स्तर की बात  करते हैं तब कई बार हमारी भाषा कमज़ोर पड़ जाती है उसे व्यक्त करने में ... जब मैं कहता हूँ कि 'मेरा' समस्या है तो ज़ाहिर है वो अहंकार ही है ... हमारे 'मेरा' और बाबा बुल्लेशाह या मीरा के 'मेरा' में कोई सम्बन्ध नहीं ..जिस दिन हमारा 'मेरा' बुलेशाह का 'मेरा' हो जाएगा उस दिन खुदा और हम दोनों एक हो जायेंगे 'मेरा' गिर जाएगा ..मगर फिर  भी जब किसी को समझाना होगा तो भाषा कि कमी की वजह से 'मेरा' 'मैं' शब्दों का आ जाना लाजिमी है .....एक कहानी सुनाऊं आपको ..
एक बार अरब से एक व्यापारी आया था हिन्दुस्तान उसने यहाँ आम खाए पहली बार ...उसे बड़े अच्छे लगे ...जाते वक़्त वो अपने साथ आम लेकर चला कि बादशाह को  तोहफा दूंगा ...मगर रास्ते भर में वो एक एक करके सारे खा गया ...बादशाह के पास पहुंचा तो उसने बताया कि उसने आम खाए हिन्दुस्तान में और ऐसा स्वाद आजतक नहीं पाया उसने ...
बादशाह ने कहा कि कैसा स्वाद था? उसने कहा कि मीठा ..तो बादशाह ने कहा चीनी जैसा ? उसना कहा न ... बादशाह ने कहा गुड जैसा ? उसने कहा न ...इस तरह बादशाह ने सब मीठी चीज़ों  के नाम बताये और उसने हर बार मना कर दिया ...पर ये भी कहा कि था मीठा ....
बादशाह ने झल्लाकर कहा कि अगर तुमने नहीं बताया तो तम्हारा सर कलम कर दिया जाएगा .... व्यापारी ने घबराकर कहा कि जहाँपनाह स्वाद एकदम वैसा तो नहीं बता सकता पर चूसने में जो आनंद आया था वो आपको थोडा थोडा दिला सकता हूँ ..पर मुझे डर है कि आप मुझे फिर भी मार दो गे .... बादशाह ने कहा कि अगर मुझे वाक़ई आनंद आया तो तुहे बख्श दूंगा ....
व्यापारी ने अपनी दाढ़ी में चाशनी लगाईं और बादशाह से कहा कि इसे चाटिये...ऐसा ही कुछ कुछ लगता है आम चूसने में ...
हा हा हा हा हा .......
तो ये है लिमिटेशन हमारी भाषा की ..जो कई बार ऐसी स्थिति पैदा कर देती है कि आप महसूस तो करते हो पर शब्द नहीं दे सकते ... और जब हम खुदा या चेतना के उस सबसे ऊंचे स्तर कि बात करते हैं तब तो हमें ख़ास ख़याल रखना होता है कि कहीं हम शब्दों में न फंस जाएँ .... वरना होता ये है कि कोई चाँद दिखा रहा है और हम उसकी ऊँगली ही देखते रह जाते हैं.
:)
aap ki baatoN se 101 pratishat sahmat hooN par mujhe abhi bhi aisa lagta hai ke sanjay ji ka mera apne naam sanjay ko reprsent karte hue tha ,,,,chalo chhoRiye is mudde ko yahiN khatam karte haiN kyonki jo aap ne kahna chaaha wo bhi galat nahi tha ....ab jaate jaate chand que or pooch leti hooN pahla to ye ki aksar aisa kyoN hota hai ke kahne waala kuchh or kah raha hota hai or sunane wala kuchh or recieve kar raha  hota hai jaisa ke abhi hum dono ne sanjay ji ke kahe ko apne apne nazariye se dekha  or ho sakta hai ke jo sanjay ji ne kaha ho wo aap ne sahi samjha ho ...ya maine...ya dono meiN se kisi ne bhi naa ,,,to aise meiN kai baar matbhed ho jaata hai to apni baat sahi se samjhaane ka guru-mantar bhi bata diziye kyonki aap ki baateiN  mere khyaal se sab ko pooi tarah samajh aati rahi haiN .

2. viaktitav meiN itni sanjeedgi itna gahra pan laana kahaaN se seekha aapne ?

aaj ye aapke saath guftgoo ka aakhiri din tha to socha kyoN na bahti ganga meiN haath dho liye jaayeiN :)

baharhaal in prashano ke jawaab aap aaraam se de sakte haiN .guftgoo ka ye safar sach mein bahut sanjeeda raha or bahut kuchh seekhane ko mila aap se or har baar  ki tarah apne aap ko bahut niminsatar par khaRe paaya abhi aap logoN se bahut kuchh seekhna baaki hai ..isi ke saath hi dua karti hoon aap ke ujwal bhawishay ki or ummid karoongi ki aap niymat roop se apni hindvi ko apne gyaan ke parkash meiN roshan karte raheiN       khushaamdeed  ji gud bye and take cr


ab jaate jaate chand que or pooch leti hooN pahla to ye ki aksar aisa kyoN hota hai ke kahne waala kuchh or kah raha hota hai or sunane wala kuchh or recieve kar raha  hota hai jaisa ke abhi hum dono ne sanjay ji ke kahe ko apne apne nazariye se dekha  or ho sakta hai ke jo sanjay ji ne kaha ho wo aap ne sahi samjha ho ...ya maine...ya dono meiN se kisi ne bhi naa ,,,to aise meiN kai baar matbhed ho jaata hai
रश्मि जी ... दुनिया में सार्वभौमिक सच जैसा कुछ नहीं है ..हर सच सापेक्ष है ..इस लिए हर चेज़ को हर बात को सब अपने अपने नज़रिए से देखते हैं ...हमारे दिमाग का हमारी सोच का विकास इस तरह से हुआ है कि हम चीज़ों को या बातों को तार्किकता कि कसौटी पर कसते हैं ... गणित में शायद आपने पढ़ा हो को-आर्डिनेट ...कि दो  जगह से एक ही वक़्त पर किसी भी एक चीज़ को एक सा नहीं देखा जा सकता .... एक तो ये मुश्किल है और दूसरी मुसीबत ये है कि हमारे पास चीज़ों को समझने और संप्रेषित करने का जो माध्यम है वो है भाषा और ये शायद बेहद कमज़ोर माध्यम है मगर सहज यही है अभी तक हमारे पास ... तो ऐसी स्थिति में वैचारिक मतभेद होना बेहद लाजिमी है ...दूसरी बात जो हमारी तार्किकता है लोजिकल अप्रोच , उसकी भी एक हद है क्यूंकि तार्किकता तभी सटीक निर्णय पर पहुंचा सकती है जब हमें सारे पैरामीटर्स कि सही सही जानकारी हो ..और ऐसा फिलहाल संभव नहीं ... क्यूंकि जो 'है' वो जो 'हो सकता था' उसका एक नगण्य हिस्सा मात्र है ..
और ये वैचारिक मतभेद बहस और झगड़ों में तब बदल जाते हैं जब हम ये मान लेते हैं कि तर्क ही सब कुछ है ...
जहां तर्क की सीमा समाप्त हो जाती है वहाँ से हमारे विवेक किन सत्ता शुरू होती है ... बिना विवेक के सारी तार्किकता व्यर्थ है .

2. viaktitav meiN itni sanjeedgi itna gahra pan laana kahaaN se seekha aapne ?
ये सरासर गलत इलज़ाम है मीलोर्ड .....

इश्क है तुमको मेरी संजीदगी से ,
माँ तो कहती है बहुत शैतान हूँ मैं ....

aaj ye aapke saath guftgoo ka aakhiri din tha to socha kyoN na bahti ganga meiN haath dho liye jaayeiN :)
अरे आपने तो नहा धो लिया और बात कर रही हैं हाथ धोने की ?
:P
« Last Edit: October 01, 2013, 06:55:35 AM by Rajneesh »

Rajneesh

  • Full Member
  • ***
  • Posts: 107
Re: Guftagu..... RAJNEESH SACHAN ji se
« Reply #125 on: October 01, 2013, 06:45:46 AM »
Rashmi Ji ,
your analysis showed a true understanding of what I said .. Word Mera was used to represent Sanjay's and where comes the ego for refereing someone as Mera , mera bacha , mera khana ..Mera Khuda , bhai main pyar se apnapan dikha rahun khuda se, na ki arrogance or ahnakar ????

But Rajneesh Dear you people of young generation are a little less receptive of other's point of view and jump to your conclusions , because of preset mental block ,,, Anyway  I have read your all interview and found you to be good human being and quite intelligent
too,,,but my request to you as senior ( age wise) that please be a little more receptive , this will help you in growing a lot in life.

May God bless you  all..
.
regds
sanjay sehgal

Rajneesh Dear you people of young generation are a little less receptive of other's point of view and jump to your conclusions , because of preset mental block
जब कोई पिछली पीढ़ी अपनी अगली पीढ़ी को कोसती है तो मुझे तरस आता है .... क्यूंकि कोई भी अगली पीढ़ी को तैयार करने उसे बनाने कि ज़िम्मेदारी पिछली पीढी की  होती है ...अगर mental block हमारी समस्या है तो इसके ज़िम्मेदार हमसे ज्यादा आप हैं .. और हाँ मेरी बात को व्यक्तिगत न समझें ये एक पीढ़ी की अपनी पूर्व वर्ती पीढ़ी से शिकायत है ... :) :)

,,, Anyway  I have read your all interview and found you to be good human being and quite intelligent
ऐसा समझने के लिए धन्यवाद साहब  :)
too,,,but my request to you as senior ( age wise) that please be a little more receptive , this will help you in growing a lot in life.
उम्र को कभी हमने श्रेष्ठता का पैमाना नहीं माना ...क्षमा चाहता हूँ .... हाँ ये बात आपकी मानता हूँ कि इंसान को जितना ज्यादा से ज्यादा हो सके ग्राह्य होना चाहिए ..और ये बात एक नवजात नादान बच्चे से लेकर मौत की दहलीज पर खड़े अनुभवी बुज़ुर्ग पर एक सी लागू होती है ..


hamdam

  • Sr. Member
  • ****
  • Posts: 271
  • Gender: Male
Re: Guftagu..... RAJNEESH SACHAN ji se
« Reply #126 on: October 01, 2013, 04:55:02 PM »
My dear friend .
Yahan koi  generation gap nahin hai bhai.Everyone hasdifferent
Perception of life..


By bowing  a little I shall not loose anything...

So you are right  boss...khush raho  apne dreamworld mei.

KhudA tumhe  khoob tarakki de...

Sanjay Sehgal
« Last Edit: October 01, 2013, 05:12:27 PM by Rashmi sharma »